35 हाथियों के झूंड ने दो रिटायर्ड सैनिकों द्वारा किए जा रहे ऑर्गेनिक फसलों को किया नष्ट, सदमें में किसान

बुंडू: जंगली हाथियों के झुंड ने दो किसानों की चार-पांच लाख की ऑर्गेनिक सब्जी खेती और मल्चिंग विधि उपकरणों को किया नष्ट। मामला बुंडू थाना क्षेत्र का है। नौसेना से अवकाश प्राप्त करने के बाद उमेश कुमार एवं जगन्नाथ महतो ने मिलकर बुंडू के झारखंड बाजार के निकट बाघाडीह रोड पर बुरूडीह गांव में दस एकड़ जमीन लीज पर लेकर आधुनिक विधि से ऑर्गेनिक खेती आरंभ की थी। इनके द्वारा किए जा रहे खेती की रांची डीसी छवि कुमार ने भी सराहना की थी। लेकिन बीती रात लगभग साढे 11 बजे जंगली हाथियों का झूंड इनपर कहर बनकर लगभग साढ़े चार एकड़ में लगे लौकी, झिंगी, करैला, नेनुआ, खीरा आदि तैयार फसलों को चट कर डाला और रौंदकर सभी साग सब्जियों को बर्बाद भी कर दिया। इतना ही नहीं वे सिंचाई के लिए आधुनिक टपक विधि का उपयोग करते हैं, हाथियों ने प्लास्टिक पाइप, तार, वाल्व व सिंचाई के मेन सप्लाई फ्लस और कनेक्टर को भी तोड दिया। फसलों के चारों ओर लगे बाड़ को भी जगह-जगह तोड़ दिया।

रिटायर्ड सैनिक उमेश कुमार ने बताया कि हाथियों ने लगभग दो लाख रुपये लागत के फसलों को तो नुकसान पहुंचाया ही है, अब् सिंचाई व्यवस्था नष्ट हो जाने के कारण बचे फसलों की सिंचाई भी नहीं हो पा रही है। इस कारण बाकी बचे फसल भी सूख सकते हैं। ग्रामीणों के अनुसार जंगली हाथियों की संख्या लगभग 35 है, जिसमें कई बच्चे भी हैं। ग्रामीणों ने बताया हाथियों का झुण्ड वहां से पश्चिम दिशा में बुंडू की ओर बढ़ गया है। सूचना है कि बुंडू के दलकीडीह गांव में भी हाथियों ने कई किसानों के फसलों को नुकसान पहुंचाया है। घटना के दूसरे दिन ग्रामीण जंगली हाथियों को खदेड़ने में जुटे।