संदिग्ध कोविड मरीजों की जांच के लिए बनेगी टीम

– वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा डीसी ने दिया आवश्यक निर्देश

गोड्डा से अभय पलिवार की रिपोर्ट

गोड्डा: शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपायुक्त भोर सिंह यादव के द्वारा कोविड-19 से संबंधित समीक्षात्मक बैठक आहूत की गई। उन्होंने जिले में संदिग्ध कोविड रोगियों की पहचान हेतु प्रखंड स्तर पर क्विक रिस्पांस टीम बनाने हेतु संबंधित पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए ।
उप विकास आयुक्त अंजलि यादव के द्वारा प्रजेंटेशन के माध्यम से क्विक रिस्पांस टीम में गठित विभिन्न टीमों को उनके कार्यों को लेकर आवश्यक जानकारी प्रदान की गई । उनके द्वारा बताया गया कि जिले के विभिन्न प्रखंडों, पंचायतों एवं सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में किसी भी व्यक्ति को कोरोना के लक्षण से संबंधित किसी भी प्रकार के सिम्टम्स जैसे: सर्दी, खांसी, बुखार, टाइफाइड आदि लक्षण प्रतीत होते हैं तो अपने निकटतम आशा वर्कर, पोषण सखी, आंगनबाड़ी वर्कर, जेएसएलपीएस स्वयं सहायता समूह के दीदी, तेजस्विनी स्टाफ, ए एन एम, स्कूल टीचर, राजस्व कर्मचारी , चौकीदार , ग्राम रोजगार सेवक, प्रधान कार्यकारी समिति ( मुखिया) को यथाशीघ्र सूचना प्रदान करें ताकि कोरोना संक्रमितों की पहचान यथाशीघ्र किया जा सके।
श्रीमती यादव के द्वारा संबंधित प्रखंडों में कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के लिए प्रखंड स्तर पर कंट्रोल रूम बनाने के निर्देश दिए गए। जिसमें प्रखंड विकास पदाधिकारी, ब्लॉक कोऑर्डिनेटर, पीएम आवास योजना, जेएसएलपीएस के बीपीएम , ब्लॉक कोऑर्डिनेटर पीआरडी, बीपीओ, मनरेगा, सीडीपीओ , लेडी सुपरवाइजर, सोशल वेलफेयर, कंप्यूटर ऑपरेटर शामिल होकर प्रत्येक दिन संदिग्ध कोरोना संक्रमित रोगियों की पहचान के डेटा जिला मुख्यालय में ससमय प्रदान करेंगे एवं उनके साथ ही साथ कंट्रोल रूम के कार्यों का भी निष्पादन करेंगे।
मौके पर सिविल सर्जन डॉ शिव प्रसाद मिश्रा, अपर समाहर्ता जुल्फिकार अली, अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा ऋतुराज, अनुमंडल पदाधिकारी महागामा जितेंद्र कुमार देव, विभिन्न प्रखंडों के प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी सहित अन्य मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *