बालाकोट हमले के 4 माह बाद भी थर-थर कांप रहा पाक, जानिये कैसे

नई दिल्ली: पुलवामा (Pulwama) में सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद बालाकोट में जैश के कैंप पर भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) के एयर स्ट्राइक (Air strikes) से पाकिस्तान अभी भी बुरी तरह डरा हुआ है. हमले के बाद से ही जहां पाकिस्तान ने भारत से लगी सीमा के आस पास अपने एयर स्पेस को पूरी तरह से बंद किया हुआ है, वहीं पाकिस्तानी सेना ने भारत से लगती अपनी सीमा के पास बचाव में आर्मड ब्रिग्रेड तैनात किया हुआ है. साथ ही कई लोकेशन पर नई डिफेंसिव रणनीति के तहत हाई मोबिलिटी आर्मड व्हीकल (HMV) भी तैनात करने की योजना में लगा हुआ है. हम आपको बता दें कि पाकिस्तान सरकार से ये कहते हुए अपने बंद पड़े एयर स्पेस को खोलने से मना कर दिया था कि जब तक भारत अपने फॉरवर्ड पोस्ट से फाइटर जेट नहीं हटाता तब तक वो एयर स्पेस पर प्रतिबन्ध जारी रखेगा ख़ुफ़िया जानकारी के मुताबिक पाकिस्तानी सेना बालाकोट में हुए हमले के बाद से ही हाई अलर्ट पर है. रिपोर्ट के मुताबिक बालाकोट हमले के बाद से ही पाकिस्तान ने कई अहम लोकेशन पर मैन पोर्टेबल एयर डिफेंस सिस्टम (MANPADS) भी लगाए हैं.मैन पोर्टेबल एयर डिफेंस सिस्टम में लैस मिसाइल के जरिये ज़मीन से हवा में किसी भी टारगेट को निशाना बनाया जा सकता है. इनमें लैस मिसाइल्स के ज़रिए लो फ्लाइंग ऑब्जेक्ट्स और हेलीकॉप्टर को टारगेट किया जा सकता है. केन्दीय सुरक्षा से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक, बालाकोट में भारत के एयर स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान अपने डिफेंस में रडार से लेकर ड्रोन्स की तैनाती में इज़ाफ़ा कर रहा है. इनपुट के मुताबिक पाकिस्तानी सेना अपने यूनिट्स के फार्मेशन में बदलाव कर रही है जिससे वो भविष्य में अपना बेहतर बचाव कर सके. मिली जानकारी के मुताबिक पाक सरकार ने अपने एयरफोर्स से कहा गया है कि वह लंबे समय से पेंडिग पड़े हथियारों और रडार की जल्द खरीद करे. पाकिस्तान लाइन ऑफ कंट्रोल और भारत से लगी सीमा के आस पास रडार सिस्टम को मजबूत करने में लगा हुआ है, जिससे बालाकोट जैसा एक औऱ हमले को टाला जा सके. पाकिस्तानी सेना ने पीओके में मौजूद सभी टेरर कैंप में मौजूद आतंकियों से कहा है कि वो खुलेआम हथियार लेकर पीओके या लाइन ऑफ कंट्रोल के आस पास न जाये. साथ ही बिना पाकिस्तानी वर्दी पहने बिना आतंकियों को कैंप से बाहर निकलने पर रोक लगा दी गई है. खुफिया एजेंसियों के मुताबिक इसके पीछे सबसे बड़ी वजह ये हैं कि पाकिस्तान इन आतंकियों को भारत के सैटलाइट्स औऱ ड्रोन्स से बचाना चाहता है.