अब जिले में दाल उत्पादन की शुरुआत भी सखी मंडल एवम उत्पादक समूहों के द्वारा होगा

पाकुड़:उपायुक्त के निर्देश पर एंव उपविकास आयुक्त के मार्गदर्शन में ग्रामीण विकास विभाग जे.एस. एल पी एस. सखी मंडलो की दीदियों को स्वरोजगार से जोड़ने हेतु निरंतर प्रयासरत है। इसी क्रम में जिले के महेशपुर प्रखंड में महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना अंतर्गत 1000 महिलाओं को उन्नत किश्म का अरहर बीज उपलब्ध कराकर 20 डिसमिल प्रति महिलाएं द्वरा खेती SCI विधि से जैविक खाद का प्रयोग करके शुरू किया गया था। उनके इस उत्पादित सामग्री को खुले बाजार या गावँ में ही उचित मूल्य पर बेचने हेतु परियोजना से मिनी दाल मिल लागत 2 लाख 28 हज़ार भी खीरुडीह उत्पादक समूह को उपलब्ध करवाया गया है जिससे महिलाएं आज अपने परिश्रम से 3 दिनों में 2 क्विन्टल से अधिक दाल का उत्पादन कर चुकी है साथ ही 150 क्विन्टल अरहर की खरीदारी भी अन्य ग्राम संगठन की महिलाओं के सहयोग से किया जा रहा है। जिससे कि अधिक से अधिक महिलाओं को खेती आधारित स्वरोजगार से जोड़ा जा सके। बर्तमान में ये केंद टेक होम राशन कार्यक्रम अंतर्गत आंगनवाड़ी केंद्रों को आपूर्ति करने में मदद करेगा जिससे कि ग्राम संगठनों को इस वैष्विक समस्या में उचित मूल्य पर शुद्ध दाल उचित मूल्य पर मिल सकेगा। भविष्य में अरहर का अधिक से अधिक उत्पादन बढ़ाने, 2 मिनी दाल मशीन यूनिट और बढ़ाने, ब्रांड विकसित कर वृहत लेवल पर वैल्यू चेन से महिला किसानों को जोड़ने की योजना पर कार्य किया जा रहा है उत्पादन के दैरान इन महिलाओं द्वारा COVID 19 SOP का पालन किया जा रहा है।