अभाविप ने अपने 73 वें स्थापना दिवस सह राष्ट्रीय छात्र दिवस पर किया झंडोत्तोलन व संगोष्ठी

पाकुड़ : अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पाकुड़ द्वारा 73 वें स्थापना दिवस सह राष्ट्रीय छात्र दिवस के अवसर पर शहर स्थित योग भवन में जिला संयोजक विकास कुमार दास द्वारा झंडोत्तोलन किया गया। इस अवसर पर मौजूद छात्र परिषद के पूर्व कार्यकर्ता रहे हिसाबी राय एवं जवाहर सिंह के द्वारा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के इतिहास और परिषद के कार्य पद्धति पर विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई उन्होंने बताया कि परिषद पूरे विश्व का सबसे बड़ा छात्र संगठन है जो 9 जुलाई 1949 ई. को बलराज मधोक के अगुवाई में कई गयी थी जो छात्र हित के साथ-साथ समाज व राष्ट्र हित में भी कार्य करता आ रहा है। उन्होंने कहा स्थापना काल से ही संगठन ने छात्रों के साथ साथ राष्ट्रहित से जुड़े प्रमुख मुद्दों को उठाया है और देशव्यापी आंदोलन का नेतृत्व किया है बांग्लादेशी अवैध घुसपैठ हो या कश्मीर से धारा 370 हटाने की मांग को लेकर विद्यार्थी परिषद ने समय-समय पर आंदोलन चलाता रहा है। बांग्लादेश को 3 बीघा भूमि देने के विरुद्ध परिषद ने ऐतिहासिक सत्याग्रह किया था।
वही कार्यक्रम के बाबत जानकारी देते हुए जिला संयोजक विकास दास ने कहा कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद अपने स्थापना काल से ही राष्ट्र का पुनर्निर्माण के संकल्प के साथ पिछले 7 दशकों से तत्पर है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद शिक्षा के व्यवसायीकरण के खिलाफ बार-बार आवाज उठाती रही है इसके अतिरिक्त अलगाववाद, अल्पसंख्यक तुष्टीकरण, आतंकवाद और भ्रष्टाचार जैसी राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के खिलाफ लगातार संघर्षरत रहे हैं। बिहार में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नाम सबसे ज्यादा रक्तदान करने का रिकॉर्ड है । छात्र शक्ति राष्ट्र शक्ति परिषद का नारा है इस नारे के साथ जुड़कर लाखों आम छात्र छात्राएं परिषद के कार्यकर्ता के रूप में निस्वार्थ भाव से कार्य कर रहे हैं। उन्होंने परिषद के कार्य पद्धति एवं संगठन के मूल मंत्र ज्ञान शील एकता पर प्रकाश डाला। संगठन के स्थापना दिवस के मौके पर परिषद कार्यकर्ताओं छात्र हित के साथ-साथ समाज हित में काम करने का संकल्प लिया । वही प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य दिशा बजाज ने बताया कि अभाविप छात्रहित व राष्ट्रहित के साथ साथ महिला सहशक्तिकरण को भी बढ़ावा दे देता आ रहा है, हर जगह महिलाओं की प्रतिभागिता बाद रहीं है, महिलाएं भी निडर होकर बोल रही हैं, जिस वजह से आज केंद्र सरकार में 11 महिला प्रतिनिधि हैं। अभाविप ने महिलाओं को निडर बनाने के लिए मिशन साहसी जैसा कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है, ओर आज उस वजह सर विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री भी खुद एक महिला है।
मौके पर अभाविप के पूर्व कार्यकर्ता हिसाबी रॉय, जवाहर सिंह, अनिकेत गोस्वामी, जिला संयोजक बिकाश कुमार दास, जिला एसएफडी प्रमुख अमित साहा, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य दिशा बजाज, विशाल भगत, नगर एसएफडी सत्यम भगत, दुलाल दास, नगर छात्रा प्रमुख मधुमिता घोष, सुप्रिया कुमारी, ट्विंकल कुमारी आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे।