आदिवासी हो समाज युवा महासभा ने टीकाकरण को ले स्वंय सहायता टीम के संग चलाया जागरूकता अभियान

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर कोविड-19 टीका की जागरूकता को लेकर आदिवासी हो समाज युवा महासभा के तत्वाधान में स्वयंसेवी संगठन के प्रतिनिधियों ने ग्राम उलीडीह(बोड़दा पुल स्थित) में ग्रामीणों के साथ आपसी संवाद किया । संवाद कार्यक्रम की अगुवाई ग्रामीण मुण्डा दीपक बोदरा के द्वारा किया गया । ग्रामीणों एवं स्वयंसेवियों के बीच कोरोना वैश्विक महामारी और लोकडाउन से उत्पन्न समस्याओं पर चर्चा हुआ । इनसे हुये सामाजिक और व्यक्तिगत क्षतियों के बारे में समीक्षात्मक बिन्दुएँ रखकर अपनों को कोविड-19 से खो जाने के कई कारणों के प्रति दुःख प्रकट किया गया । ग्रामीणों से टीकाकरण के दुष्प्रचार एवं बुरा परिणामों के बारे में अपना-अपना विचार साझा कराया गया । वहीं टीका न लेने पर राशन न मिलने की भ्रांतियों को आदिवासी हो समाज युवा महासभा एवं स्वयंसेवी संगठन की टीम की ओर से दूर किया गया । टीकाकरण के पूर्व स्वास्थ्य जाँच एवं बीमारी की इतिहास के अनुसार स्वास्थ्यता व सक्षम लोगों को टीकाकरण के लिये ग्रामीणों को सलाह दिया गया । टीकाकरण की नकारात्मक प्रभाव एवं फैल रही भ्रांतियों की सामाजिक नियंत्रण हेतु विभिन्न उदाहरण प्रस्तुत किया गया और युवाओं को टीकाकरण के प्रति प्रोत्साहित किया गया । जैसे ही स्थिति की नियंत्रण के पश्चात सामाजिक संगठन के तत्वाधान में ग्राम में स्वास्थ्य,शिक्षा,कृषि,स्वरोजगार एवं समाज की आंतरिक कुरीतियों पर जागरूकता हेतु शिविर और नुक्कड़ सभा कार्यक्रम रखने के लिये प्रस्ताव दिया गया और ग्रामीणों ने इस पर सहमति जतायी । इस अवसर पर आदिवासी हो समाज युवा महासभा के केन्द्रीय अध्यक्ष डॉ बबलु सुन्डी,जिलाध्यक्ष श्री गब्बरसिंह हेम्ब्रम,सीकेपी अनुमंडल अध्यक्ष श्री मदन बोदरा,मुकुन्द नायक एवं प्रबंधबियुसेस और नारा टीएफए मिलन चारिटेबल ट्रस्ट के प्रतिनिधि सहित काफी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे ।