अवैध बालू ढुलाई के खिलाफ प्रशासन हुआ रेस, चार ट्रैक्टर जब्त

बुंडू: एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) के आदेश के पूर्व ही खनन माफियाओं की सक्रियता दिखने लगी है। रांची और खूंटी तथा इनसे सटे नदी घाटों से बालू माफिया इन दिनों धड़ल्ले से बालू का उठाव कर जमाखोरी में लगे हैं।

हराडीह बूढ़ाडीह पुल के ढहने के बाद बुंडू अनुमंडलीय पुलिस ने अवैध बालू उत्खनन और बालू उठाव तथा डम्पिंग मामले में कार्रवाई आरम्भ कर दी है। कांची नदी के तटवर्ती इलाकों में 10-15 किलोमीटर के दायरे में लगातार बालू उत्खनन का अवैध धंधा चल रहा है। दशम फॉल जलधारा के चुरगी से होते हुए बुंडू से होते हुए तमाड़ इलाके तक नदी किनारे बालू का अवैध उत्खनन चोरी छिपे की जाती है।

बता दें कि बालू उत्खनन के कारण यास तूफान की बारिश में कांची नदी में बना पुल ध्वस्त हो गया था। ऐसे में अब बालू तस्करी करनेवालों पर बुंडू अनुमंडलीय पुलिस और खनन विभाग ने नकेल कसना आरम्भ कर दिया है। बुंडू सीओ, सोनाहातू सीओ और तमाड़ सीओ के साथ संयुक्त रूप से बुंडू थाना इंस्पेक्टर और अन्य पुलिस बलों की टीम ने टुटीलौंग, बिचाहातू के पास आयुष्मान हेल्थ सेंटर के पास बालू के डम्पिंग क्षेत्र में छापामारी अभियान चलाया। इस क्रम में डम्पिंग क्षेत्र की जमीन के मालिक की खोजबीन की गई लेकिन जमीन मालिक का पता नहीं चल पाया।

इधर दूसरी तरफ बुंडू अनुमंडलीय पुलिस ने कांची नदी से अवैध बालू की ढुलाई कर डंप कर रहे चार ट्रैक्टर को गोसाइंडीह के पास जब्त किया जबकि चारों ट्रैक्टर के चालक भाग निकले।

बता दें कि इन दिनों लगातार बारिश होने से कांची नदी में बालू की सघन परतें बिछ गईं हैं। इससे बालू तस्करी करने वालों की चांदी हो गयी है और लगातार ट्रैक्टर से कांची नदी किनारे से बालू का उठाव कर बड़े दायरे में बालू को डंप किया जा रहा है। बालू माफिया लगातार बारिश होने से इन दिनों सक्रिय हो गए हैं और सरकारी स्तर पर बालू उठाव पर प्रतिबंध लगने से पूर्व ही बालू माफिया अपने डम्पिंग क्षेत्र में बालू की जमाखोरी करने में जुटे हैं। डीएसपी ने बताया कि लगातार सोनाहातू, तमाड़ और बुंडू अंचल अधिकारियों के साथ संयुक्त रूप से अभियान चलाकर अवैध बालू उत्खनन, बालू उठाव और बालू डम्पिंग मामले में कार्रवाई की जाएगी।