दोपहर 3 बजे के बाद शहर में दिख रहा है अघोषित कर्फ्यू से ज्यादा असर

चतरा। राज्य में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर जारी स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के दुसरे चरण में अघोषित लॉकडाउन का ज्यादा असरदार चतरा शहरी क्षेत्र में दिख रहा है। दोपहर तीन बजे के बाद शहर के मुख्य मार्ग पर सन्नाटा पसर जा रहा है। संक्रमण का लोगों में ऐसा डर इस बार समाया है कि शहर में केसरी चैक से लेकर मुख्य डाक घर, जतराहीबाग और मुख्य मार्ग में सभी दुकानें दोपहर 3 बजे के बाद बंद होने के साथ सड़कें सुनसान हो जा रही है, शायद पहले कभी ऐसा नहीं देखा गया। मेडिकल दुकानों को छोड़ दिया जाए, तो शेष अन्य दुकानें बंद। इसकी एक वजह दोपहर दो बजने के साथ ही सदर थाना का पीसीआर साइरन के साथ शहर में गश्ती पर निकलना भी है। साइरन की आवाज सुनते ही दुकानदार सचेत हो जाते हैं और शटर गिराने लगते थे। स्थनिय लोगों का कहना है कि पिछले वर्ष के लॉकडाउन में पुलिस एवं प्रशासनिक पदाधिकारियों की सख्ती होने के बाद भी मुख्य मार्ग पर ऐसा सन्नाटा नहीं था। इस बार सख्ती भी पिछले बार की तरह नही होने के साथ लॉकडाउन भी आंशिक है, लेकिन सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। यही स्थित हंटरगंज बाजार की भी है। हंटरगंज में अंचल व प्रखंड कार्यालय एवं खाद्य आपूर्ति कि दुकानें एवं औषोधी दुकानें खुली रहीं। अन्य दुकानें, सब्जी मंडी, फल मंडी, मॉल और अन्य दुकानें पूरी तरह से बंद रही। प्रखण्ड कार्यालय में प्रभारी बीडीओ मुरली यादव और अंचल कार्यालय में सीओ मिथलेश कुमार कुछ अहम सरकारी कार्यों को निबटारा करते दिखे। वहीं एनएच 99 पर पूरी तरह सन्नाटा नजर आया।