फिर सुलगने लगा है विस्थापितों का मुद्दा

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो:  बोकारो सेल के द्वारा 19 गांव को खाली कराने का नोटिस दिए जाने की बात को लेकर सेक्टर 9 में विस्थापित संगठनों की हुई बैठक। आज रविवार को सेक्टर 9 में जिले के विभिन्न विस्थापित आंदोलन से जुड़े संगठन और दल के लोगों की बैठक हुई इस बैठक में मुख्य रूप से आजसू के चंदनक्यारी पूर्व विधायक उमाकांत रजक व भाजपा के बेरमो के पूर्व विधायक योगेश्वर महतो बाटुल उपस्थित हुए जहां पर बोकारो सेल के द्वारा 19 गांव को खाली कराने का नोटिस दिए जाने को लेकर यह बैठक की गई
बेरमो के पूर्व विधायक योगेश्वर महतो बाटुल का कहना है कि 34700 एकड़ जमीन सेल ने अधिग्रहित किया जिसमें आधा जमीन अभी भी खाली है उनमें 19 विस्थापित गांव के अंदर की जमीन हो या फिर टाउनशिप के अंदर पड़े जमीन जिसमें अनुथ्राइज लोग रह रहे हैं लेकिन सेल प्रबंधन उस पर कुछ भी करने नहीं जा रही है भूमि अधिनियम के अनुसार रैयत को वह जमीन वापस होनी चाहिए
वहीं उन्होंने कहा कि एक भी गांव खाली नहीं होगा और हमारा जो अधिकार पहले से ही वंचित है पहले वह अधिकार सेल मैनेजमेंट और सरकार इंप्लीमेंट करें उसके बाद हम लोग विचार करेंगे कि हम लोग क्या करेंगे तब तक 1 इंच भी जमीन सेल को नहीं देंगे ना काम करने देंगे
उन्होंने यह भी कहा कि जब विस्थापितों का पुनर्वास किया जा रहा था उस समय बिहार सरकार थी और आश्वासन दिया गया था कि चतुर्थ वर्ग की नौकरी बिल्कुल आरक्षित होगी और द्वितीय वर्ग और तृतीय वर्ग में हम विस्थापितों को प्राथमिकता दी जाएगी जो आज तक उनका अनुपालन नहीं हुआ आज भी हमारे कुछ विस्थापितों का मुआवजा बाकी है जो हाई कोर्ट में मामला पड़ा हुआ है और काफी लंबे समय से चल रहा है
पुनर्वास क्षेत्र में आज भी 50 सालों के बाद पानी बिजली की पर्याप्त सुविधा वहां बसे परिवार को नहीं मिल पा रही इसलिए सेल प्रबंधन पहले विस्थापित गांव के अंदर और टाउनशिप के अंदर खाली पड़े जमीन को रयत ओ को वापस करें