बच्चों को दिए जाने वाले कृमि नाशक एल्बेंडाजोल की दवा पूरी तरह सुरक्षित है : उपायुक्त

उपायुक्त, सिविल सर्जन एवं अपर समाहर्त्ता द्वारा जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम का किया गया शुभारंभ

गुमला: गुमला जिलांतर्गत राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। इस निमित्त आज उपायुक्त गुमला शिशिर कुमार सिन्हा, सिविल सर्जन डॉ.राजू कच्छप एवं अपर समाहर्त्ता सुधीर कुमार गुप्ता द्वारा सदर अस्पताल परिसर में संयुक्त रूप से राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया गया।

इस अवसर पर उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा ने कहा कि 20 अगस्त से 30 अगस्त तक गुमला जिले में आयोजित होने वाले कृमि मुक्ति कार्यक्रम में जिले के 01 वर्ष से 19 वर्ष के सभी बच्चे/ किशोर/ किशोरियों को सहिया द्वारा कृमि नाशक दवा एल्बेंडाजोल की दवा खिलाई जाएगी। उन्होंने सहिया/ सेविका की उपस्थिति में ही बच्चों को दवा खिलाने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया कि एल्बेंडाजोल की दवा पूरी तरह सुरक्षित है, इससे बच्चों के शरीर पर किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव नहीं पड़ते हैं। उन्होंने आम नागरिकों को कृमि मुक्ति कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने की अपील की। साथ ही उन्होंने आमलोगों को अपने बच्चों को बेहिचक कृमि नाशक दवा खिलाने हेतु प्रेरित किया। उन्होंने बच्चों को दिए जाने वाली खुराक के विषय में कहा कि 06 माह से 02 वर्ष तक के बच्चों को एल्बेंडाजोल की आधी गोली पूरी तरह चूरकर पीने के पानी में मिलाकर पिलाने की जानकारी दी तथा दो वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों को पूरी एक गोली चबाकर पानी के साथ खिलाने की जानाकारी दी। उन्होंने बच्चों एवं उनके अभिभावकों से खाली पैर न चलने तथा निरंतर हाथ धोने की आदतों को अपनाने पर जोर दिया।

इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ.राजू कच्छप ने कृमि मुक्ति कार्यक्रम की पृष्ठभूमि से अवगत कराते हुए बताया कि स्वास्थ्य, चिकित्सा, शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग झारखंड राँची द्वारा 20 से 30 अगस्त 2021 तक कृमि मुक्ति कार्यक्रम निर्धारित है। इसके तहत जिले के सभी 01 से 19 वर्ष के बच्चों/ किशोर एवं किशोरियों को एल्बेंडाजोल की गोली खिलाई जाएगी। उन्होंने 06 माह से 02 वर्ष तक के बच्चों को एल्बेंडाजोल की आधी गोली (200 एमजी) चूरकर पानी के साथ मिलाकर पिलाना है तथा 02 वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों को 400 एमजी की एक पूरी गोली पानी के साथ चबाकर खाने की जानकारी दी। उन्होंने सहिया एवं सेविका को अपने विशेष निगरानी में ही बच्चों को कृमि नाशक दवा की खुराक खिलाने पर जोर दिया। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में सहिया तथा शहरी क्षेत्रों में आंगनबाड़ी सेविका/ सहिया के द्वारा गृह भ्रमण कर एल्बेंडाजोल की खुराक खिलाई जाएगी। उन्होंने आगे बताया कि बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए यह बेहद जरूरी है कि समय-समय पर उनकी डीवार्मिंग की जाए। इसके लिए अभिभावकों को भी कृमि मुक्ति के लिए खिलाए जाने वाले एल्बेंडाजोल के फायदों की पूरी जानकारी होना अनिवार्य है। उन्होंने कृमि बीमारी के लक्षण की जानकारी साझा करते हुए बताया कि कृमि के कारण बच्चों का पढ़ाई में मन न लगना, भूख न लगना, चिड़चिड़ापन तथा शरीर में पोषक तत्वों की कमी पाई जाती है। अतः बच्चों को कृमि नाशक एल्बेंडाजोल की दवा जरूर खिलाएं।

मौके पर अपर समाहर्त्ता सुधीर कुमार गुप्ता ने कहा कि 01 वर्ष से 19 वर्ष के बच्चों हमारे देश एवं समाज का स्तंभ है। अतः आप सभी कृमि मुक्ति कार्यक्रम में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करते हुए अपने बच्चों को कृमि नाशक दवा की खुराक अवश्य पिलाएं। उन्होंने कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन हेतु जिले के 953 गाँवों तक कार्यक्रम का संचालन कराए जाने पर बल दिया। उन्होंने शुरूआती दौर में ही इस बीमारी का ईलाज कराने पर विशेष जोर दिया।

इसके पश्चात् उपायुक्त, सिविल सर्जन एवं अपर समाहर्त्ता द्वारा बच्चों को एल्बेंडाजोल की दवा खिलाई गई। इसके बाद सदर अस्पताल परिसर से संयुक्त रूप से जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। आज रवाना किए गए जागरूकता रथ के माध्यम से शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर कृमि मुक्ति कार्यक्रम के विषय में लोगों को जागरूक किया जाएगा तथा आमजनों को अपने बच्चों को कृमि नाशक दवा खिलाने हेतु प्रेरित भी किया जाएगा।

इसके उपरान्त उपायुक्त ने सदर अस्पताल परिसर में अधिष्ठापित किए जाने वाले पीएसए प्लांट का निरीक्षण किया। निरीक्षण के क्रम में विद्युतिकरण का कार्य पूर्ण पाया गया तथा स्थल पर ट्रांसफॉर्मर तथा 250 केवीए का जेंसेट अधिष्ठापित पाया गया। उपायुक्त ने बताया कि पीएम केयर फंड के तहत पीएसए प्लांट की अधिष्ठापना की जा रही है, जिससे गुमला जिले में कोरोना सहित अन्य गंभीर बिमारी से पीड़ित मरीजों को निर्बाध, समुचित एवं सुचारू रूप से इलाज मुहैया कराया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने परिसर स्थित मेस सह रसोई घर का अवलोकन किया। उपायुक्त ने रसोई घर में एग्सहॉस्ट फैन संधारित करने तथा रसोई घर की नियमित साफ-सफाई सुनिश्चित करने का निर्दश दिया। सके साथ ही उन्होंने ऑक्सिजन कक्षमें उपलब्ध मिनिफोल्ड ऑक्सिजन सिलिंडरों तथा जंबो ऑक्सिजन सिलिंडरों की वस्तु स्थिति का भी अवलोकन किया

उपस्थिति
कृमि मुक्ति शुभारंभ कार्यक्रम में उपायुक्त शिशिर कुमार गुप्ता, सिविल सर्जन डॉ.राजू कच्छप, अपर समाहर्त्ता सुधीर कुमार गुप्ता, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी देवेंद्रनाथ भादुड़ी, डीपीएम स्वास्थ्य जया रेशमा खाखा, डीस्ट्रिक्ट प्रोजेक्ट कॉर्डिनेटर यूनिसेफ अपूर्वा सेन, स्वास्थ्य विभाग के कर्मीगण, प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधि व अन्य उपस्थित थे।