अखिल भारतीय अनुसूचित जाति/जनजाति एवं पिछड़े वर्ग समन्वय परिषद ने बैनर तले विधायक को सौंपा मांग पत्र

इचाक से कुलदीप कुमार की रिपोर्ट

ईचाक: अखिल भारतीय अनुसूचित जाति/जनजाति एवं पिछड़े वर्ग समन्वय परिषद रमेश हेम्ब्रम जिला अध्यक्ष ने विधायक अमित कुमार यादव को क्षेत्रीय समस्या से अवगत कराते हुए सौंपा मांग पत्र एवं लिखा है कि पंचायत डाडीघाघर कुल 6 गाँव आता है। जिसमें आजादी काल से ही विकास से वंचित रखा गया है। जो प्रखण्ड भर में एक मात्र आदिवासी बहुल्य पंचायत में से आता है और प्रखण्ड भर में सबसे लम्बा चौड़ा क्षेत्रफल में से आता है। लेकिन विकास के मामले में पूरे पंचायत को वंचित रखा गया है। जब कि विकास के लिए पहला सड़क होता है, लेकिन पूरे पंचायत में कहीं भी सड़क नहीं बन पाया है। ना ही पीने योग्य पानी है, न स्वथ्य उप केन्द्र है, न अभी तक पूर्ण रूप से बिजली है, अवागमन के लिए रोड नहीं होने के कारण कई बार बीमारी हालत में ईलाज के अभाव में लोग दम भी तोड़ देते है। साथ ही सड़क के अभाव में मरीज एवं गर्भवती महिलाएँ ईलाज एवं प्रसाद के लिए एक मात्र सहारा चारपाई या पैदल पहाड़ी पगडंडी का
सहारा ही बन पाता है। ऐसे में जान-माल का भी जोखीम होना पड़ता है। जबकि विकास को लेकर कई बार प्रसाशन से लेकर सरकार तक लिखित एवं अखबार मीडिया के माध्यम से आवाज उठाया गया है।फिर भी विकास से वंचित रखा गया है। जो निम्नप्रकार हैं।डाडीघाघर पंचायत के ग्राम-फुफन्दी, शहीद तुलेश्वर हेम्ब्रोम चौक से ग्राम पुरनमनिया, सिमरातरी होते भाया डेबो तक कालीकरण पी.सी.सी. एवं पुल निर्माण,पंचायत डाडीघाघर ग्राम फुफन्दी शहीद तुलेश्वर हेम्ब्रोम चौक से पंचायत डाढ़ा ग्राम माड़पा टोला मुर्तिया होते ग्राम दिग्ही तक कालीकरण पथ निर्माण एवं पी.सी.सी. पथ निर्माण,ग्राम फुफन्दी काला सीमाना से ग्राम डाढ़ीघागर होते ग्राम तुरी तक कालीकरण पथ निर्माण, पंचायत डाडीघाघर ग्राम गरडीह बन्हे बाबा पथ से गरडीह होते भाया गिदहा कुटमा तक कालीकारण पथ निर्माण,ग्राम फुफन्दी सीमाना से ग्राम आरा तक पी.सी.सी पथ निर्माण ,ग्राम फुफन्दी आदिवासी तिलैया टोला में सिंचाई हेतू तलाब निर्माण,ग्राम गरडीह सिंचाई हेतु तलाब का गहरीकरण एवं तलाब निर्माण,ग्राम पुरनपरनीया में सिंचाई हेतु तलाब निर्माण ग्राम तुरी में सिंचाई हेतु तलाब निर्माण एवं गहरीकरण।डाडीघाघर पंचायत के सभी 6 गाँवों को एक दुसरे प्रखण्ड बरकट्ठा, बरही और पदमा प्रखण्ड से जुड़ा हुआ है। इसलिए इस पंचायत को प्रथमिकता के साथ विकासशील मॉडल के रूप विकसीत करते हुए राज्य स्तर पर विकास को गिनाया जा सकता है। एवं इन्होंने बहुत जल्द समस्या की निदान की मांग किया।