किसी भी व्यक्ति के शरीर में रक्त की मात्रा 12.5 ग्राम से कम होने पर वह व्यक्ति एनीमिक माना जाता है: डॉ गुरमीत

रामगोपाल जेना
चाईबासा : रोटरी क्लब चाईबासा की नियमित साप्ताहिक बैठक में भिलाई से आए डॉ गुरमीत सिंह ने महत्वपूर्ण स्वास्थ्य संबंधित टिप्स प्रदान किया।

सर्वप्रथम उन्होंने बताया की किसी भी व्यक्ति के शरीर में रक्त की मात्रा 12.5 ग्राम से कम होने पर वह व्यक्ति एनीमिक माना जाता है, और B12 और फोलिक एसिड की कमी होने पर व्यक्ति को टेस्ट, नींद में कमी, पैर में दर्द, होठ कटना, थकान आदि महसूस होती है ऐसे में हरी सब्जियां, दूध और फल आदि का सेवन करना चाहिए।
वैसे ही यदि किसी व्यक्ति को स्टूल में रक्त आता हो तो यह गंभीर संकेत हो सकता है, और इसकी तुरंत जांच करवानी चाहिए, एनीमिक होने पर टेस्ट, खानपान और दवा के द्वारा उपचार किया जाना चाहिए।
गर्भवती महिलाओं में खून की कमी देखी जाती है, उन्हें आयरन की गोली दी जाती है, वैसे ही कामकाजी महिलाओं को भी आयरन की ज्यादा जरूरत होती है।
डायबिटीज़ से पीड़ितों को विशेष निगरानी रखनी होती है, उन्हें HB A1C कि जांच से अपने रक्त में शर्करा के स्तर को जानना चाहिए, यदि यह निर्धारित से ज्यादा हो तो सावधानी बरतनी जरूरी है।
इस मौके पर रोटरी क्लब चाईबासा के सभी सदस्य उपस्थित थे,
सर्वप्रथम रोटरी अध्यक्ष महेश खत्री और सचिव विकास दोदराजका ने मुख्य अतिथि डॉ सिंह का स्वागत संयुक्त रूप से प्रतीक चिन्ह प्रदान कर किया।
रोटरी क्लब के पूर्व अध्यक्ष निरंजन प्रसाद साव एवं पूर्व रोटरी अध्यक्ष घनश्याम गागराई ने संयुक्त रूप से रोटरी क्लब का प्रशस्ति पत्र देकर डा• सिंह को सम्मानित किया।
स्वागत भाषण और डा• गुरमीत सिंह का परिचय रोटेरियन सुशील मूंधड़ा ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन रोटेरियन मदन मोहन दरीपा ने दिया।