क्षत्रिय समाज सरायकेला का पुनर्गठन अध्यक्ष बने अश्वनी सिंह देव एवं महासचिव नीलाम्बर सिंह देव

सरायकेला। राजमहल सरायकेला में शनिवार को क्षत्रिय समाज सरायकेला की एक बैठक समाज के संरक्षक राजा प्रताप आदित्य सिंह देव की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में सरायकेला, रंकाकोचा, दुगनी, बांकसाहि सहित आस पास के क्षत्रिय समाज के सदस्यगण उपस्थित रहे। साथ ही बतौर आमंत्रित परिवारिक सदस्यगण खरसावां, ईचा, मनोहरपुर, जगन्नाथपुर एवं आनंदपुर इकाई के क्षत्रिय परिवार के बुजुर्ग एवं युवा उपस्थित रहे। देवी माता पाउड़ी की पूजा आराधना पश्चात बैठक की कार्यवाही की गई। संरक्षक राजा प्रताप आदित्य सिंह देव मौके पर उपस्थित क्षत्रिय समाज के सदस्यों को संबोधित करते कहा कि यहां पर हमलोग का सामाजिक संगठन बहुत ही अच्छा चल रहा था इसे और ऊर्जावान एवं सक्रिय बनाने के लिए सर्वसहमति से नवगठित कमेटी भी अपना दायित्व निर्वहन करे। इस बार कमेटी में युवाओं को भी अवसर दिया जाएगा वे अपने वरीय जनों के मार्गदर्शन में सामाजिक एकता एवं सांगठनिक सशक्तता हेतु कार्य करें। सर्वसहमति से नवगठित कमेटी में अध्यक्ष अश्वनी सिंह देव, उपाध्यक्ष श्रीधर सिंह देव, मनोज सिंह देव(दुगनी) सुमन कर धीर सामंत एवं विकास सिंह देव, महासचिव नीलाम्बर सिंह देव, संयुक्त सचिव अमित सिंह, सह सचिव व्रज मोहन सिंह देव, राकेश सिंह देव, गौतम सिंह देव एवं विक्रम सिंह देव तथा कोषाध्यक्ष राजकुमार सिंह चयनित किये गए। समाज के संरक्षक राजा प्रताप आदित्य सिंह देव द्वारा नवचयनित अध्यक्ष से कहा गया कि आज की बैठक में हमारे समाज के कई परिवार सदस्य अनुपस्थित हैं। उनसे संपर्क कर दायित्वभार देते हुए कमेटी का पुनः विस्तार करें। पूर्व अध्यक्ष बबलू सिंह देव ने भी नवगठित कमेटी के अध्यक्ष एवं टीम से कहा कि सुचारू रूप से संगठन चलाने में जहां भी आवश्यकता हो वे पूर्ववत सहयोग देते रहेंगे। नवगठित टीम द्वारा पैलेस समक्ष स्थित महाराजा आदित्य प्रताप सिंह देव के आदमकद मूर्ति पर माल्यार्पण किया गया।