सड़क सुरक्षा के टीम द्वारा एस०एस० प्लस टू उच्च विद्यालय गुमला में चलाया गया जागरूकता अभियान

गुमला: एस०एस० प्लस टू उच्च विद्यालय गुमला में सड़क सुरक्षा टीम के द्वारा प्रोजेक्टर के माध्यम से रोड सेफ्टी वीडियो क्लिप्स प्रदर्शित कर जागरूकता अभियान चलाया गया। इस दौरान विद्यार्थियों को बताया गया कि वाहन चलाते समय हेलमेट का उपयोग अवश्य करें। बच्चों को सुझाव दिया गया है कि 18 वर्ष से कम उम्र वाले वाहन ना चलाएं चलाएI जाने पाने पर 25000 रुपए का जुर्माना वसूला जाएगा एवं 3 वर्ष की कैद का भी प्रावधान है। वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग ना करें। साथ ही सड़क सुरक्षा के सदस्यों द्वारा यातायात नियम का कड़ाई से पालन करने के लिए शपथ ग्रहण कराया गया। सड़क सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम के दौरान सड़क सुरक्षा के सदस्यों द्वारा स्कूली विद्यार्थियों को आए दिन हो रहे सड़क दुर्घटनाओं की विस्तृत जानकारी देते हुए सड़क दुर्घटनाओं से कैसे बचा जाए, इस संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। साथ ही सड़क दुर्घटनाओं को किस प्रकार कम किया जाए इस पर विद्यार्थियों से विचार-विमर्श भी किया गया PPT के माध्यम से 2020 एवं 2021 में होने वाले एक्सीडेंट का आंकड़ा का भी मूल्यांकन किया गया। उन्होंने बताया थोड़ी सी चूक के कारण होने वाली सड़क दुर्घटना से बचने के लिए ट्रैफिक नियमों का पालन करने तथा करवाने पर जोर दिया। सड़क पर चलते समय मोबाईल के प्रयोग से हो रहे दुर्घटनाओं को भी समझाया गया, ताकि भविष्य में विद्यार्थी ऐसी गलती न करें। साथ ही उन्हें भविष्य में सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित किया।
जागरूकता अभियान के क्रम में वाहन चालकों सहित उपस्थित अन्य लोगों को सड़क सुरक्षा द्वारा सड़क सुरक्षा की महत्ता को बताते हुए अपने-अपने परिवार, आस-पड़ोस के लोगों को वाहन चलाते समय हेलमेट का निश्चित रूप से उपयोग करने के महत्व के बारे में चर्चा करने की अपील किया गया। उन्होंने थोड़ी सी चूक के कारण होने वाले सड़क दुर्घटना से बचाव के लिए ट्रैफिक नियमों का पालन करने तथा करवाने पर जोर दिया। साथ ही सड़क पर वाहन चलाते समय मोबाइल के प्रयोग से हो रही सड़क दुर्घटना से संबंधित वीडियों क्लिप को भी दिखाया गया।
जागरूकता कार्यक्रम के दौरान मुख्य रूप से सड़क सुरक्षा के रोड सेफ्टी मैनेजर कुमार प्रभास, रोड इंजीनियरिंग एनालिस्ट प्रणय कांसी एवं आईटी असिस्टेंट मंटू रवानी व अन्य सदस्य शामिल थे।