बाहर से घर लौटे लोगों की जांच करवाने के लिए ग्रामीण सक्रिय

पथररगामा: जानलेवा कोरोना वायरस से बचाव के लिए देश में 21 दिनों के लिए लॉक डाउन की घोषणा की गई है। लॉक डाउन के कारण रोजी रोजगार के लिए बाहर गए लोग येन केन प्रकारेण अपने घरों को वापस लौट रहे हैं। बाहर से घर लौटने के बावजूद जो लोग अपनी जांच नहीं करवा रहे हैं, उन लोगों के कारण ग्रामीणों की चिंता बढ़ गई है। कुछ लोग पहल कर बाहर से घर आए लोगों के बारे में प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग को सूचना दे रहे हैं।
प्रखंड के प्राथमिक उप स्वास्थ्य केंद्र रूपुचक में दिल्ली से लौटे 25 मजदूरों की जांच रविवार को डाक्टर प्रिंस के द्वारा किया गया। डाक्टर प्रिंस ने बताया कि प्राथमिक उप स्वास्थ्य केंद्र रूपुचक में 25 मजदूरों के जांच करने के बाद उसके हाथ में मोहर लगा दिया गया है। बताया कि सभी मजदूरों को एक पर्ची लिखकर दिया गया है । निर्देश दिया गया है कि पर्ची को अपने घर के सामने चिपका देंगे। सभी मजदूरों को निर्देश दिया कि वे अगल-बगल के ग्रामीणों के साथ नहीं बैठेंगे , ना ही किसी प्रकार का संबंध रखेंगे। बताया कि सभी मजदूरों को यह भी निर्देश दिया गया है कि वह किसी ग्रामीण के घर में भी नहीं जाएंगे। वह अपने घर के अंदर ही रहेंगे। बताया कि सभी 25 मजदूरों के घरों का आइसोलेशन कर दिया गया है।
इस बीच प्रखंड के महेशलिट्टी ग्राम में भी एक दर्जन से अधिक मजदूर दिल्ली से अपने घरों को लौटे हैं। लेकिन उन लोगों द्वारा कोरोना का जांच नहीं करवाया गया है। इसके कारण ग्रामीणों की चिंता बढ़ गई है। ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग को संदेश भेज कर बाहर से घर लौटे लोगों की जांच करवाने का अनुरोध किया है।