बाल श्रमिक शिक्षकों ने चेयरमैन साहब वेतन दिलवाई भूखे मर रहे हैं का लगाया गुहार

पाकुड़: चेयरमैन साहब वेतन दिलवाई भूखे मर रहे हैं यह आवाज किसी और की नहीं बल्कि बाल श्रमिक शिक्षकों की है । बता दें कि पाकुड़ जिले में लगभग 22 बाल श्रमिक स्कूल है जिसमें लगभग100 की संख्या में शिक्षक एवं कर्मी कार्यरत हैं ।श्रम अधीक्षक पाकुर से मिली जानकारी के अनुसार अगस्त 2018 से अभी तक इन लोगों को वेतन नहीं दिया गया है जिसकी वजह से इन लोगों के सामने भुखमरी की समस्या आ गई है । जिसको लेकर इन्होंने समाहरणालय के पास अपना रोष जताया और वही उपायुक्त कुलदीप चैधरी से विनम्र पूर्वक आग्रह किया कि चेयरमैन साहब वेतन दिलवा दीजिए हम लोग भूखे मर रहे हैं । वही इस बाबत जब बाल श्रम अधीक्षक पाकुड़ रंजीत कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मुझे जानकारी मिली थी कि कल इन्होंने धरना दिया है इन लोगों की पहली समस्या वेतन को लेकर के हैं इन्हें लगभग 18 महीने से वेतन नहीं दिया गया है वहीं उन्होंने बताया कि इनके वेतन का भुगतान भारत सरकार द्वारा किया जाता है सिर्फ राज्य सरकार की इसमें इतनी भूमिका है कि जिले के उपायुक्त चेयरमैन होते हैं ।मैंने सारा कागजात तैयार कर डीसी साहब को दे दिया है । अब देखना यह है कि इस दर्द भरी पुकार से डीसी साहब के कार्यालय से फाइल कितने दिनों में भारत सरकार तक पहुंचती है और बाल श्रमिक शिक्षकों को वेतन मिलता है। वही इस विषय को लेकर बाल श्रमिक शिक्षक के प्रतिनिधि मंडल ने उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा । इस मौके पर सपन प्रमाणिक , शमीम शेख , अजय झा , जहांगीर आलम , हीरा मुनि मुर्मू ,विनीता मुर्मू ,चंद्र मुनि मुर्मू , बबली कुमारी सरस्वती दास निभा मिश्रा आदि कई शिक्षक शिक्षिकाएं मौजूद थे।