बालू का अवैध उत्खनन जारी, मुख दर्शक बना संबंधित विभाग

टंडवा(चतरा)। चतरा जिले के टंडवा थाना क्षेत्र में विभिन्न नदियों से बालू का अवैध उत्खनन धड़ल्ले से जारी है। वहीं इस अवैध कार्य पर संबंधित विभाग से जुड़े पदाधिकारियों का ध्यान नही है। मनो सभी मुख दर्शक बने हुए हैं। इस संदर्भ में किसुनपुर निवासी महावीर महतो ने बताया कि केवल थाना क्षेत्र के किसुनपुर स्थित बघलतवा नदी क्षेत्र से प्रतिदिन सैंकड़ों ट्रक्टर बालू का दोहन किया जाता है। अवैध बालू की आपूर्ति चतरा एवं हजारीबाग जिले के विभिन्न क्षेत्रों में की जाती है। वन, खनन और प्रशासनिक अधिकारी संज्ञान नहीं लेते हैं। सूत्रों की माने तो इस अवैध कारोबार में अधिकारियों की संलिप्तता से इंकार नहीं किया जा सकता। अंचलाधिकारी टंडवा को बालू दोहन से संबंधित पूर्व में सूचना दी गई थी, बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई अबतक। साथ हीं वन क्षेत्र से परिवहन होने की सूचना भी सामाचार-पत्रों में समय-समय पर प्रकाशित होता रहा है। बालू घाटों की नीलामी नहीं होने से सरकारी राजस्व का बड़ा नुकसान जहां हो रहा है वहीं पूर्णतः रोक लग जाने से सरकारी व गैर-सरकारी आधारभूत संरचनाओं के निर्माण कार्य अवरुद्ध हो जाना बड़ा अड़चन है। मुख्यमंत्री जनसंवाद में शिकायतोपरान्त वन क्षेत्रों में ट्रेंच की खुदाई कराई गई थी, बावजूद अब भी वन क्षेत्रों में दर्जनों रास्ते निर्माण कर दिया गया है।