बालू के धंधेबाजों ने पैतरा बदलते हुये अब स्वास्थ्य उपकेन्द्र में किया बालू का भंडारण,अधिकारी भी मौन

महेशपुर : खंड में इन दिनों नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल (एनजीटी) के आदेश को ताक पर रखकर कानून की उड़ायी जा रही है धज्जियां । बालू के धंधेबाजों ने पैतरा बदलते हुये अब स्वास्थ्य उपकेन्द्र में किया बालू का भंडारण वहीं अधिकारी भी झाड़ रहे हैं इससे पल्ला।ताजा मामले के तहत प्रखंड के बाबुदहा पंचायत अंतर्गत अमलादही गांव में संचालित उप स्वास्थ्य केंद्र परिसर के चारदीवारी के अंदर गांव के ही कुछ बालू माफिया द्वारा अवैध तरीके से कब्जा कर बालू जमा कर रखा है जिससे पता चलता है बालु माफिया किस तरह बालु तस्करी करने में जुटे हैं और सरकारी भवन को अपने कब्जे में ले रखा है ।इधर प्रखंड में बालू माफियाओं का कितना मनोबल बढ़ा हुआ है और अवैध बालू का भंडारण कर उप स्वास्थ्य केंद्र में रखने को लेकर ग्रामीण तरह तरह के चर्चा कर रहे है ।कुछ ग्रामीणों ने तो कहा की आखिर ऐसा कैसे हुवा जो सरकारी स्वस्थ्य उप केंद्र को कब्जा कर बालु का भंडारण कर रखना कहीं न कहीं प्रशासन की लापरवाही हो सकता है या तो फिर बालु माफिया से सेटिंग गेटिंग हो । ज्ञात हो कि एनजीटी के तहत 10 जून से 15 अक्टूबर तक नदी से बालू उठाव करना पूर्ण रूप से प्रतिबंध है इसके बावजूद भी अमलादही गांव के कुछ बालू माफिया सारे नियम कानून को ताक पर रखकर सरकारी भवन में ही बालू का अवैध भंडारण कर रखा है। सरकारी स्वास्थ्य उपकेंद्र में बालु का भंडारण करने से जहां मरीजों को परेशानी हो रही है तो वहीं बालू माफियाओं का चांदी कट रही है। बालू माफियाओं द्वारा दिन के उजाले ही नहीं बल्कि बालू को गुप्त रास्ते से पश्चिम बंगाल भेजा जा रहा है। संबंधित विभाग के अधिकारी कान में तेल डाल कर सोए हुए है। देखा जाये तो अवैध रूप से बालू का उठाव किए जाने से सरकार को रोजाना लाखों रुपए राजस्व का नुकसान हो रहा है साथ ही एनजीटी कानून का भी उल्लघन किया जा रहा है।वहीं इस बावत जब प्रखंड के सीओ से पुछा गया तो वे डभ्एमओ को कहने कीबात कह तो वहीं डीएमओ को जानकारी देने के बाद वे सीओ को सूचना देने की बात कहते देखे गये इसी बीच प्रखंड के चिकित्सा पदाधिकार से पुछने पर उन्होने कहा कि बाबलू तो गिरा हुआ है परन्तू किसका है यह पता नहीं है।अधिकरियों का टालमटोल वाला रवैया कहीं ना कहीं सवालां को जन्म देता दिख् रहा है।वहीं अधिकारियों से बात करने के बाद ग्रामीणों के द्वारा सूचना दिया गया कि बालू मािफया बालू का उठाव करने में लग गये है।

क्या कहा सीओ ने

इस बावत जब अंचलाधिकारी रितेश जयसवाल से फोन पर सम्पर्क की गई तो उन्होने साफ तौर पर कहा की डीएमओ से संपर्क करें वहीं

वहीं जब मामले को लेकर जिला खनन पदाधिकारी उत्तम कुमार विश्वास से फोन पर सम्पर्क किया गया तो उन्होंने कहा की प्रखंड अधिकारी से जानकारी देता हॅू।वहीं प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी अमित कुमार ने कहा कि बालू जमा करने की सूचना मुझे हें परन्तू बालू किसका है यह पता नहीं है।