नामकरण को लेकर आदिवासी हो, युवा महासभा व सेवानिवृत संगठन ने कोल्हान विवि के कुलपति से की मुलाकात

रामगोपाल जेना
चाईबासा: कोल्हान विश्वविद्यालय, चाईबासा के केंद्रीय लाईब्रेरी एवं ऑडिटोरियम का नामकरण को लेकर आदिवासी हो समाज महासभा , युवा महासभा एवं सेवानिवृत्त संगठन व छात्र संगठन की प्रतिनिधिमंडल ने कोल्हान विश्वविद्यालय के कुलपति श्री गंगाधर पांडा से मुलाकात की । प्रतिनिधि मंडल ने केंद्रीय लाइब्रेरी को पंडित गोदावरी मिश्रा और ऑडिटोरियम को जग्गू दीवान के नाम से किये गये नामकरण प्रस्ताव को वीसी से कड़ी आपत्ति जतायी । कोल्हान की जनजाति एवं यहां की आबादी की भावना से अवगत कराकर अविलंब रद्द कराने की मांग की। क्षेत्र की बहुलता के साथ – साथ यहां के वीर-शहीद, महापुरुष, शिक्षाविद् एवं स्वतंत्रता सेनानी पैदा हुए तथा देशहित में समाज के लिए अहम योगदान दिया है,जिन पर नामकरण रखने की आदिवासियत भावनाओं को रखा गया और यहां के शैक्षणिक संस्थानों में कोल्हान के सपूतों और यहीं के यहां के इतिहास में योगदान देनेवाले महापुरुषों के नाम पर नामकरण रखने को लेकर मांग रखा गया,जिन्हे सच्ची श्रद्धांजलि एवं उपयुक्त स्थान दिया जा सकेगा।इस पर कुलपति ने प्रतिनिधिमंडल को स्पष्ट किया कि संस्थान को नामकरण रखना विश्वविद्यालय के अधिकार क्षेत्र में नहीं है,हम यहां की प्रस्ताव का सम्मान रखेंगे,आप सभी सरकार एवं संबंधित विभाग को अपना प्रस्ताव भेजें,समाज एवं शैक्षणिक हित में जो सरकार का निर्णय होगा, आप सभी के समन्वय एवं सहयोग से अनुपालन करेंगे। इसके साथ ही कुलपति ने इस मामले को लेकर सीनेट बैठक की निर्णय से भी अवगत कराकर एजेंडा एवं रीजुल्यूशन कॉफी की प्रतिलिपि भी प्रतिनिधिमंडल को उपलब्ध कराया । इस मौके पर महासभा केंद्रीय समिति के उपाध्यक्ष श्री कृष्ण चन्द्र बिरुली, महासचिव यदुनाथ तियु, कोषाध्यक्ष चैतन्य कुंकल, सेवानिवृत अध्यक्ष सुखलाल पूर्ति,युवा महासभा केंद्रीय अध्यक्ष डॉ बबलू सुंडी, महासचिव इपिल समड़, जिलाध्यक्ष गब्बर सिंह हेंब्रम, छात्र नेता सनातन पिंगुवा,शंकर चातोंबा,मदन बोदरा, ओयबन हेंब्रम, भीमसेन चातोंबा,लखन सिंकु,अर्जुन हेंब्रम,पूर्णचंद्र चातोम्बा,जामदार हेंब्रम आदि मौजूद थे ।