खिलाड़ी के यौन शोषण में फंसे चक्रधरपुर के भाजपा नेता संजय मिश्रा को भेजा गया जेल, खुद को बताया निर्दोष

प्रभारी डीएसपी दिलीप खलको ने पीड़िता और आरोपी से अलग-अलग की पूछताछ, प्रथम दृष्टया बताया आरोपों को सही

रामगोपाल जेना
चक्रधरपूर: भारतीय जनता पार्टी के पश्चिमी सिंहभूम जिला मीडिया प्रभारी संजय मिश्रा उर्फ बुद्धु पंडित पर महिला खिलाड़ी द्वारा यौन शोषण के लगे आरोप के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर मंगलवार को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. मंगलवार की सुबह चक्रधरपुर के प्रभारी डीएसपी दिलीप खलको थाना पहुंचे और थाना प्रभारी प्रवीण कुमार के साथ मिलकर आरोपी व पीड़िता से अलग-अलग पूछताछ की. पूछताछ करने के बाद आरोपी संजय मिश्रा को जेल भेज दिया. इस संबंध में जानकारी देते हुए चक्रधरपुर के प्रभारी डीएसपी दिलीप खलको ने बताया कि जांच के दौरान प्रथम दृष्टा में पीड़िता द्वारा लगाए गए आरोप सही पाये गए हैं. पीड़िता द्वारा लगाया गया अश्लील वीडियो वायरल करने का आरोप भी सत्य पाया गया है. अन्य आरोपों के संबंध में उन्होंने कहा कि जांच का विषय है, जिसकी जांच की जा रही है. गौरतलब है कि सोमवार को चक्रधरपुर थाना में संजय मिश्रा पर महिला खिलाड़ी ने यौन शोषण का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था. साथ ही चाईबासा कोर्ट में फर्द बयान भी दर्ज कराया था. जिसके बाद सोमवार रात को ही संजय मिश्रा को हिरासत में ले लिया गया था.

मैं 3 अप्रैल को सागर होटल गया ही नहीं: संजय मिश्रा

जेल जाने के पहले संजय मिश्रा ने वीडियो बयान जारी कर कहा कि सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं. मेरे चुनाव के जो प्रतिद्वंद्वी हैं, मेरे विरोधी मुझे हर हाल में हराना चाहते हैं. उन्होंने एकजुट होकर मेरे खिलाफ माहौल बनाया है. यह विरोधियों द्वारा रचा गया घिनौना षड्यंत्र है. मुझे प्रशासन पर पूरा भरोसा है. मुझे प्रशासन पर पूरा भरोसा है. प्रशासन दोनों का कॉल डिटेल निकाल कर जांच कर ले. जिस सागर लॉज का जिक्र किया जा रहा है, वहां 3 अप्रैल का रजिस्टर चेक कर लिया जाए, सीसीटीवी देख लिया जाए, मेरी कहीं उपस्थिति नहीं है. मुझे पूरा भरोसा है कि प्रशासन निष्पक्ष तरीके से अपना काम करेगा.