भाजयुमो जिला कोषाध्यक्ष सुमित को अपराधियों ने गोली मारकर की हत्या

आक्रोशित भाजपा कार्यकर्ता और परिजनों ने 3 घंटे एनएच 98 को किया जाम

पूर्व विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता के आश्वासन पर छोड़ा गया जाम

सुमित की हत्या कर कार में रख दिया था शव

हरिहरगंज से प्रसिद्ध कुमार अम्बेडकर की रिपोर्ट

हरिहरगंज (पलामू)। भाजपा जिला कोषाध्यक्ष सुमित श्रीवास्तव को अपराधियों ने शनिवार की रात गोली मारकर हत्या कर दी है। सुमित की कनपटी में गोली मारी गई है।शव एनएच-98 मेदिनीनगर-औरंगाबाद मुख्य पथ पर हरिहरगंज थाना क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के समीप पहाड़ी मंदिर जाने वाले मोड़ पर उनकी कार से बरामद किया गया। पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एमएमसीएच भेज दिया है।पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी है।जानकारी के मुताबिक सुमित कुमार शनिवार की रात साढ़े 10 बजे अपने दोस्त से मिलने की बात कह कर घर से निकला था। लेकिन वापस नहीं लौटने पर परिजनों ने जब उसकी खोज शुरू की तो एनएच-98 के पास उसका शव बरामद हुआ।

पूर्व विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता के आश्वासन पर छूटा जाम

घटना के बाद से बीजेपी कार्यकर्ताओं में जहां आक्रोश है, वहीं परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।क्षेत्र में दहशत का माहौल है। इस हत्याकांड के विरोध में रविवार को हरिहरगंज बाजार बंद रखने के साथ ही गोली मारे जाने की खबर पर अपराधियों को अविलंब गिरफ्तार करने की मांग पर थाना के मुख्य गेट के सामने एनएच 98 मुख्य सड़क को भाजपा कार्यकर्ता व परिजनों ने करीब तिन घंटे सड़क को जाम रखा। जाम की सूचना पर छतरपुर एसडीपीओ अजय कुमार, हरिहारगंन पुनि सह थाना प्रभारी सुदामा कुमार दास,पीपरा थाना प्रभारी सूरज चैल, पत्थरा ओपी प्रभारी अजय कुमार राय और पूर्व विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता के अलावे विभिन्न दलों के नेताओं ने सड़क जाम हटाने के लिए परिजनों से अनुरोध किया।इस दौरान 24 घंटे के अंदर अपराधियों के गिरफ्तारी पर पूर्व विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता के आश्वासन पर परिजनों ने जाम को छोड़ा। और वाहनों की परिचालन सुचारू करवाया।
वही भाजपा कार्यकर्ता और परिजनों ने पुलिस प्रसाशन से मांग करते हुए कहा अविलंब अपराधियों को गिरफ़्तार करे अन्यथा आक्रोशित आंदोलन के लिए तैयार रहे।

सुमित की हत्या कर कार में रख दिया था शव

ग्रामीणों के मुताबिक सुमित की हत्या कर उसके शव को कार में रखा गया। ड्राइवर की सीट के बगल में उसके शव को इस तरह रखा गया था कि खून का रिसाव न हो। मॉर्निंग वॉक कर लोट रहे लोगों की माने तो उनके जाते वक्त घटनास्थल पर कोई कार खड़ी नहीं थी लेकिन लौटते वक्त कार और उसमे एक लाश मिला है। इससे जाहिर होता है कि सुमित की हत्या के बाद कार को यहां पार्क कर अपराधी फरार हो गए हैं।इस संबंध छत्तरपुर एसडीपीओ अजय कुमार ने बताया कि घटना के कारणों का स्पष्ट पता नहीं चल पाया है पर प्रथम दृष्टया आपसी रंजिश प्रतीत होता है।उन्होंने कहा कि अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारीकी जा रही है।

सुमित श्रीवास्तव के पिता विजय कुमार सिन्हा अधिवक्ता एवं माता शिक्षिका हैं।वे एसआरएम चित्रांश आईटीआई कॉलेज व अमृत होटल के मालिक थे। उनके दो भाई दो बहनों में वे सबसे बड़े थे।