शिक्षक दिवस पर बच्चों को बताया गया इसके महत्व

पाकुड़: आज दिन रविवार को ई-विद्या के सहयोग से संस्था लोक कल्याण सेवा केंद्र द्वारा संचालित डिजिटल स्कूल देवी नगर में शिक्षक दिवस के पावन शुभ अवसर पर डिजिटल स्कूल के बच्चों द्वारा शिक्षा के महत्व के बारे में बताया गया । भारतीय दर्शनशास्त्र के ज्ञाता एवं प्रसिद्ध शिक्षक डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस पर हम लोग हर वर्ष शिक्षक दिवस मनाते हैं,डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन गणतंत्र भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति एवं द्वितीय राष्ट्रपति थे, साथ ही बताया गया कि वे ज्ञानी विद्वान् रहे. शिक्षा के प्रति रुझान ने उन्हें एक मजबूत व्यक्तित्व प्रदान किए। अर्थात वह जो आध्यात्मिक ज्ञान एवं शिक्षा द्वारा अपने शिष्यों को मार्गदर्शन करते हैं। डिजिटल स्कूल के बच्चों द्वारा ऑनलाइन के माध्यम से दीप जलाकर माला बनाकर कार्यक्रम शुभारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में ऑनलाइन के माध्यम से सभी क्लास के शिक्षक को बच्चों द्वारा शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी गई। वर्ग सहायक राजीव रंजन द्वारा बताया गया की कैसे हम लोग शिक्षक को आधार एवं सम्मान देना चाहिए। बच्चों द्वारा विभिन्न श्लोकों के माध्यम से गुरुओं की प्रशंसा की गई जैसे-अक्षर अक्षर हमें सिखाते शब्द शब्द का अर्थ बताते ,कभी प्यार से कभी डांट से जीवन जीना हमें सिखाते हैं। कर्ता करे न कर सके गुरु करे सब होय, सात दीप नौ खंड में गुरु से बड़ा न कोई। गुरु होता सबसे महान जो देता है सबको ज्ञान आओ इस शिक्षक दिवस पर करें अपने गुरु को प्रणाम। इस कार्यक्रम में निम्नलिखित बच्चों ने क्विज प्रोग्राम चित्रांकन प्रोग्राम कर मनोरंजन किया। शिक्षक दिवस के शुभ अवसर पर e-vidya लोका के सुश्रिता मेम जसलीन मैम अनुज सर, सचिन सर तृषा मैम, रागिनी मैम एवं सोनम मैम एवं मेघा मैम में उपस्थित थीं। डिजिटल क्लास के बच्चे कोविड-19 नियमों का पालन करते हुए मयंक पांडेय, दिव्या कुमारी ,छोटी कुमारी, ओम कुमार भगत, रुपेश भगत, नयन सिंह, मनीष सिंह वह अन्य बच्चों ने भाग लिए ।