china को लगा जोर का झटका, भारत में चीनी सामान की मांग घटी

नई दिल्ली: यह किसी सोशल मीडिया अभियान की सबसे बड़ी जीत मानी जा सकती है . सोशल मीडिया पर चाइनीज सामान (chinese goods) के बहिष्कार की मुहिम पिछले तीन साल से चल रही है पर इस साल इस मुहिम के नतीजे आंकड़ों में भी दिखाई दे रहे हैं. आम तौर पर दिवाली (Diwali) के त्योहार के दौरान चीनी सामान भारी मात्रा में बेचा जाता है लेकिन चीनी सामान की बिक्री में कमी आई है. पिछले वर्षों की तुलना में इस वर्ष चीनी सामान की ब्रिकी में लगभग 60% की गिरावट दर्ज की गई है. चीनी उत्पादों की बिक्री में 60 प्रतिशत की गिरावट का आंकड़ा कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) द्वारा हाल ही में दिवाली त्यौहार के दौरान देश के 21 शहरों में किए गए एक सर्वे के आधार पर जारी किया गया है. एक अनुमान के मुताबिक, दिवाली के दौरान 2018 में बेचे जाने वाले चीनी सामानों का मूल्य लगभग 8000 करोड़ रुपये था, जबकि इस साल दीपावली के त्योहार पर चीनी सामानों की बिक्री लगभग 3200 करोड़ रुपये की हुई . कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने कहा, ‘इस साल हमने दीवाली के त्योहार पर चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने के लिए जुलाई के महीने में ही देश भर के व्यापारियों और आयातकों को अग्रिम सलाह दी थी और परिणामस्वरूप आयातकों ने चीन से बेहद कम मात्रा में माल आयात किया और दूसरी तरफ व्यापारियों ने भी स्वदेशी सामान खरीदने पर ज्यादा जोर दिया और यही कारण था की इस वर्ष दिवाली त्यौहार में चीनी उत्पादों की उपलब्धता बेहद कम थी .’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *