चिरेका द्वारा उत्पादित 100वां रेलइंजन देश के नाम समर्पित

मिहिजाम से मिथिलेश निराला की रिपोर्ट

मिहिजाम: चित्तरंजन रेलइंजन कारख़ाना (चिरेका) ने कोविड-19 काल में तमाम सुरक्षित नियमों का पालन करते हुए वित्तीय वर्ष 2020-21 में अबतक 100वां विद्युत रेलइंजन का उत्पादन करने मेँ सफलता हासिल किया है। चिरेका द्वारा उत्पादित 100वां रेलइंजन (डब्लूएजी9एचसी/32904) मंगलवार को देश सेवा के लिए समर्पित किया गया। प्रवीण कुमार मिश्रा, महाप्रबंधक, चिरेका द्वारा चिरेका साईडिंग से हरी झंडी दिखाकर 100वें रेलइंजन को रवाना किया गया। इस मौके पर चिरेका के वरीय अधिकारी उपस्थित थे। इस दौरान कोविद-19 के सतर्कता और सुरक्षा नियमों का भी ख्याल रखा गया। जानकारी हो कि इससे पहले कोविड-19 काल अप्रैल और मई महीने में भी 70 कार्यदिवसों में 50 रेल इंजन और अगले 50 रेल इंजन केवल 32 कार्य दिवसों में उत्पादित किए गए। इस तरह से वर्तमान वित्तीय वर्ष में 102 कार्य दिवसों में 100 रेल इंजन का निर्माण किया गया है। जबकि वित्तीय वर्ष 2019-20 में 97 दिनों में 100 रेल इंजन का निर्माण किया गया था। प्रवीण कुमार मिश्रा, महाप्रबंधक,चिरेका के प्रेरणा और प्रोत्साहन रूपी मार्गदर्शन से उत्पादन और आपूर्ति क्षमता को गति मिल रही है। यह आशा है कि चिरेका इस मौजूदा वित्तीय वर्ष 2020- 21 में फिर से एक नए लक्ष्य को पार कर मील का पत्थर हासिल करने में सक्षम होगा। चिरेका ने 2018-19 और 2019-20 में क्रमशः 402 और 431 इलेक्ट्रिक इंजन का उत्पादन करके विश्व कीर्तिमान बनाया।