सीएम हेमंत सोरेन ने गुमला सदर अस्पताल के ब्लड बैंक परिसर में ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन इकाई का वर्चुअल शिलान्यास किया गया

: हमारे द्वारा दिया जाने वाला रक्त कई जिंदगियों को बचा सकता है, रक्तदान श्रेष्ठदान है: उपायुक्त

गुमला: अंतर्राष्ट्रीय रक्तदाता दिवस के अवसर पर स्वास्थ्य शिक्षा एवं परिवार कल्याण मंत्रालय झारखंड सरकार द्वारा प्रायोजित एवं झारखंड राज्य ऐड्स कंट्रोल सोसायटी के सौजन्य से गुमला सदर अस्पताल में ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन इकाई का वर्चुअल शिलान्यास माननीय मुख्यमंत्री झारखंड, हेमंत सोरेन के द्वारा किया गया।

इस अवसर पर उपायुक्त ने कहा कि गुमला जिले के लिए ये सौभाग्य की बात है। जिले को मिली इस सौगात से निश्चित ही स्वास्थ्य सुरक्षा की ओर सफल कदम उठाएं जा सकेंगे। ब्लड कंपोनेंट सेप्रेशन यूनिट के शुरू होने से जिलावासियों को काफी लाभ मिलेगा। जिले के लोगों को रक्त की समस्या से निपटने हेतु बाहर जाने की आवश्यकता नहीं होगी। एक सामान्य ब्लड में 4 तरह का रक्त होता है आरबीसी, डब्ल्यूबीसी, प्लेटलेट्स एवं प्लाजमा। इन चारों ब्लड का उपयोग अलग-अलग बीमारियों में होता है। अब एक यूनिट रक्त से कम से कम दो लोगों को लाभ मिल पाएगा। जिन व्यक्तियों को सिर्फ प्लाज्मा की जरूरत होगी उन्हें उसी तरह से ब्लड उपलब्ध कराया जाएगा। डेंगू के मरीजों के लिए प्लेटलेट्स ब्लड की जरूरत होती है। जिले के मरीजों को इन सभी मामलों के लिए ब्लड चढ़ाने हेतु अन्य शहरों का रुख करना पड़ता था, लेकिन अब यहाँ सेपरेशन यूनिट शुरू होने से लोगो को इसी जिले में लाभ मिल पाएगा। इसके अलावा उपायुक्त ने अपने संदेश में कहा कि सभी स्वस्थ व्यक्ति संकोच छोड़कर रक्तदान करें। रक्तदान महादान है। खून के अभाव में किसी की जान न जाए, इसके लिए सभी को जागरूक होने की आवश्यकता है। सभी स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकते हैं। उनके रक्तदान से जरूरतमंद व्यक्तियों की जान बच सकती है। रक्तदान करने से किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं आती है एवं न ही किसी प्रकार की कमजोरी महसूस होती है। रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं है। आगे उपायुक्त ने रेडक्रॉस सोसायटी के कार्यों की सराहना करते हुए युवाओं से इस मुहिम में आगे बढ़कर सहयोग करने एवं रक्तदान करने की अपील की। उन्होंने कहा कि आपके द्वारा दिया जाने वाला रक्त कई लोगों की जिंदगियों को बचा सकता है।

इसके अतिरिक्त उपायुक्त ने अंतर्राष्ट्रीय रक्तदाता दिवस के अवसर पर सभी को शुभकामनाएं दी एवं रक्तदाताओं का आभार व्यक्त किया। उन्होंने रक्तदाता दिवस के अवसर पर युवाओं से आह्वान किया कि रक्तदान जरूर करें। बेहतर कल के लिए रक्तदान अवश्य करें। वर्तमान में काफी बच्चे थैलेसीमिया से पीड़ित होते हैं एवं उन्हें नियमित रूप से रक्त की आवश्यकता होती है। आपका रक्त विभिन्न बीमारियों से ग्रसित रोगियों को बचा सकता है। इसलिए हम सभी को मिलकर रक्तदान करना चाहिए। रक्तदान करने से किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होती है। रक्तदान आपको इंसान से भगवान बना सकता है।

इस दौरान उपायुक्त ने रक्तदान को लेकर रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि रेडक्रॉस सोसायटी के सफल प्रयासों से ही जिले में लगातार रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाता रहा है। इनके अथक प्रयासों से आज लोग रक्तदान शिविर में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें रहे हैं। उनके इस बहुमूल्य योगदान से प्रशासन को काफी सहयोग मिल रहा है। रक्तदान शिविर को लेकर जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है, ताकि लोग जागरूक हो व रक्तदान करने में अपना अमूल्य योगदान दे। उन्होंने कहा कि ऐसे में हम सभी को मिलकर एक अच्छे उद्देश्य की पूर्ति के लिए आगे बढ़कर रक्तदान करना होगा, तभी जाकर हम सुरक्षित समाज का निर्माण करने में सफल होंगे।

उपस्थिति
आज के इस कार्यक्रम में राज्य मुख्यालय ऑड्रे हाऊस राँची से माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, राँची, हजारीबाग, गिरीडीह, जमशेदपुर, पलामू के माननीय विधायक, अपर मुख्य सचिव अरूण कुमार सिंह, ऐड्स कंट्रोल सोसायटी के निदेशक भुवनेश प्रताप सिंह व अन्य उपस्थित थे। वहीं दूसरी ओर जिला मुख्यालय से उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा, सिविल सर्जन डॉ.विजया भेंगरा, अपर समाहर्त्ता सुधीर कुमार गुप्ता, ब्लड बैंक के प्रभारी डॉ. आनंद किशोर उराँव, रेड क्रॉस सोसायटी के सचिव बलदेव शर्मा, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी देवेंद्रनाथ भादुड़ी, जिला सूचना एवं विज्ञान पदाधिकारी हरेंद्र सिंह, एसएमपीओ रेचल जोजोवार, डीपीएम स्वास्थ्य जया रेशमा खाखा, तकनीकि सहायक राजीव, मारवाड़ी युवा मंच के प्रतिनिधि, मिशन बदलाव के प्रतिनिधि, जीवन संस्थान के प्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में रक्तदाता उपस्थित थे।