आयुक्त ने चतरा जिला का किया दौरा, विभिन्न योजनाओं का किया समीक्षा, दिया आवश्यक निर्देश

महेंद्र कुमार यादव

चतरा: उत्तरी छोटानागपुर प्रमण्डल हजारीबाग के आयुक्त कमल जॉन लकड़ा ने शुक्रवार को चतरा जिला का दौरा किया। उनके परिसदन भवन में आगमन होने पर उन्हें जवानों द्वारा गार्ड ऑफ ऑनर से नवाजा गया। मौके पर उप विकास आयुक्त सुनील कुमार सिंह ने आयुक्त को पुष्ट भेंट कर उनका स्वागत किया। तत्पश्चात आयुक्त ने परिसदन भवन में जिले में संचालित सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर समीक्षा बैठक किया। उन्होंने उप विकास आयुक्त सुनील कुमार सिंह, चतरा एसडीओ मुमताज अंसारी, सिमरिया एसडीओ सुधीर कुमार दास, एसडीपीओ अविनाश कुमार, सिविल सर्जन सहित संबंधित जिला स्तरीय अधिकारियों संग विधि व्यवस्था, कृषि विभाग से संबंधित खाद-बीज की उपलब्धता एवं वितरण की स्थिति, कल्याण, छात्रवृत्ति एवं विद्यालय भवन निर्माण योजनाओं, कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारियां, खाद्य आपूर्ति राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना, मनरेगा योजना अन्तर्गत कार्यरत योजनाओं समेत अन्य योजनाओं की समीक्षा किया। बैठक में कृषि पदाधिकारी ने पीएम किसान योजना, खाद बीज की उपलब्धता, कीटनाशक समेत अन्य की विस्तार पूर्वक जानकारी दिया। उन्होंने बताया कि 50 प्प्रतिशत अनुदान पर कृषकों को खाद बीज का वितरण किया जा रहा है। समूह को मिनी ट्रैक्टर देने की योजना है जिसके तहत सब्सिडी पर ट्रैक्टर भी दिया जाना है। आयुक्त द्वारा कृषि पदाधिकारी एवं कृषि विभाग से संबंधित सभी कर्मियों को निर्देश दिया गया कि सक्रिय भूमिका निभाते हुए कृषकों को विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ देना सुनिश्चित कराया जाए। वहीं आयुक्त ने कोविड-19 थर्ड वेभ की संभावना को देखते हुए तैयारियों की समीक्षा किया। उन्होंने पीएसए प्लांट अधिष्ठापन की स्थिति की भी जानकारी लिया। स्वास्थ्य विभाग के प्रभारी चिकित्सक ने बताया कि चतरा, इटखोरी, टंडवा एवं हंटरगंज में पीएसए प्लांट अधिष्ठापन किया जा रहा है। प्लांट के अधिष्ठापन होने के पश्चात 1 हज़ार लीटर प्रति घंटा की छमता से ऑक्सिजन सप्लाई किया जाएगा। इसके अलावे ऑक्सिजन कंसंट्रेटर, ऑक्सिजन सिलेंडर, बेड, दवा की उपलब्धता, एम्बुलेंस की संख्या, कोविड सैंपल कलेक्शन, वैक्सीन की उपलब्धता, आईसीयू, एसएनसीयू, ऑक्सिजन सिलेंडर रिफिल समेत अन्य की भी जानकारी लेते हुए आयुक्त ने कई आवश्यक निर्देश दिए गए। बैठक में कल्याण एवं शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए आयुक्त ने मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक के छात्रों को छात्रवृत्ति देने को लेकर पूरी प्रक्रिया की जानकारी जिला कल्याण पदाधिकारी से लिया। वहीं छात्रों को खाते में छात्रवृत्ति भुगतान एवं कितने प्रतिशत छात्रों का अब तक भुगतान किया गया, इसकी पूर्ण जानकारी ली गई। बैठक में जिला कल्याण पदाधिकारी एवं जिला शिक्षा अधीक्षक ने बताया कि कुछ छात्रों का बैंक खाता सही नही होने पर उन्हें छात्रवृत्ति भुगतान में समस्या आती है, शेष को बैंक खाते में ससमय सीधा भुगतान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि फण्ड का अभाव नही है। आयुक्त द्वारा पोस्ट मैट्रिक को लेकर सभी आवश्यक दस्तावेज की अच्छे से जांच के पश्चात ससमय छात्रवृत्ति भुगतान का निर्देश दिया। बैठक में जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने बताया राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा के तहत योग्य लाभुकों को ससमय राशन का वितरण किया जा रहा है। वही आदिम जनजाति परिवारों को डाकिया योजना के तहत राशन का वितरण किया जा रहा है। पीजी पोर्टल पर प्राप्त होने राशन वितरण से जुड़े शिकायतों का ससमय निष्पादित कर राशन वितरण समेत अन्य कार्य किया जा रहा है। ग्रीन राशन कार्ड को लेकर भी कार्य किया जा रहा है। कोविड के दौरान प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत पीएच, एएवाय राशनकार्ड धारियों को 5 किलोग्राम प्रति व्यक्ति राशन दिया गया है। जिले में दाल भात योजना संचालित है। इसके अलावे जिले में धोती साड़ी योजना एवं ई पॉज़ मशीन अपडेट कार्य जल्द प्रारंभ किया जाना है। आयुक्त ने आधार कार्ड सीडिंग की भी जानकारी लेते हुए जिला आपूर्ति पदाधिकारी को आवश्यक निर्देश दिए। मनरेगा योजना की समीक्षा के दौरान उप विकास आयुक्त ने समस्त आंकड़ा आयुक्त के समक्ष प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि जिले में बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत फलदार वृक्ष लगाया जा रहा है। वहीं दीदी बाड़ी योजना, आंगनबाड़ी निर्माण कार्य की स्थिति की भी जानकारी साझा की गई। उप विकास आयुक्त ने बताया कि कोरोना काल के दौरान वैसे श्रमिक जिन्हें कार्य की आवश्यकता है उन्हें कार्य दिया गया है। मनरेगा अंतर्गत वर्मी कंपोस्ट के कार्य के बारे में भी आयुक्त द्वारा जानकारी लेते हुए आवश्यक निर्देश दिए गए। विधि व्यवस्था की समीक्षा के दौरान अनुमंडल पदाधिकारी चतरा ने अनुमंडल स्तर पर दर्ज हुए मामलों का सम्पूर्ण आंकड़ा आयुक्त के समक्ष प्रस्तुत किया। अनुमंडल पदाधिकारी ने बताया कि चतरा अनुमंडल क्षेत्र में जमीन विवाद के मामले अधिक दर्ज होते है। समीक्षा के पश्चात आयुक्त ने क्षेत्र में विधि व्यवस्था संधारण हेतु निर्देशित करते हुए ससमय मामलों के निपटारे का निर्देश दिया। बैठक में मुख्य रूप से आयुक्त के सचिव, केके सिंह, जिला कृषि पदाधिकारी, आपूर्ति पदाधिकारी, शिक्षा पदाधिकारी, कल्याण पदाधिकारी, नजारत उप समाहर्ता समेत अन्य संबंधित मौजूद थे।