महागामा में कांग्रेस एवं अभाविप ने अर्पित किया श्रद्धा सुमन

मुकेश कुमार/ जावेद अख्तर
महागामा/हनवारा: अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ विद्रोह के प्रतीक हूल दिवस पर अमर शहीद सिद्धू -कान्हो एवं अन्य क्रांतिकारी वीरों को महागामा दियाजोरी रेलवे फाटक के समीप स्थित प्रतिमा स्थल पर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने फूल माला पहनाकर श्रद्धांजलि दी। एनएसयूआई जिला अध्यक्ष मुन्ना राजा ने इस मौके पर अमर शहीद सिद्धू, कान्हो की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। उन्होंने कहा कि 1855 में सिदो-कान्हू के नेतृत्व में आदिवासियों ने अदम्य वीरता और साहस का परिचय देते हुए अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे।युवा कांग्रेस अध्यक्ष मिन्हाजुल हक ने कहा कि अपने हक, अधिकार और देश की खातिर इन वीरों ने अपनी कुर्बानी दे दी थी। संताल विद्रोह के ऐसे नायकों की शहादत हम सभी को सदैव प्रेरित करेगा। इस मौके पर बिपिन बिहारी सिंह , दिलदार, मंसूर अंसारी ,इम्तियाज रिजवी, नदीम रज़ा,महिला मोर्चा की रंजना झा,मनोवर ,कृष कुमार ,कमर आलम आदि
कांग्रेस कार्यकर्ता ने भी वीर शहीद की तस्वीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी।
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की महागामा नगर इकाई द्वारा हूल दिवस के मौके पर शहीद सिद्धो, कान्हू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उनको श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।
परिषद के नगर मंत्री सुमित कुमार ने बताया कि संथाली भाषा में हूल का अर्थ होता है विद्रोह। 30 जून, 1855 को अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ विद्रोह का बिगुल फूंका और 400 गांवों के 50,000 से अधिक लोगों ने भोगनाडीह गांव पहुंचकर जंग का एलान कर दिया । इससे घबरा कर अंग्रेजों ने विद्रोहियों का दमन प्रारंभ किया। प्रदेश कार्यकरणी सदस्य आदित्य मंडल ने भी वीरों को याद करते हुए कहा कि हमें इनकी शहादत पर गर्व हैं । कार्यक्रम में सह मंत्री रोशन, कार्यालय मंत्री सुमित मंडल, सोशल मीडिया प्रभारी पवन,सह कार्यालय मंत्री निशांत , राहुल तथा अन्य कार्यकर्ता उपस्थित रहे।