क्वारंटाईन सेंटर में रह रही प्रवासी महिलाओं श्रमिकों के बीच सैनिटरी पैड व सुरक्षा किट का किया गया वितरण

सिसई प्रखंड प्रशासन की पहल पर सरस्वती विद्या मंदिर स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर में महावारी स्वच्छता के विषय में वहां रह रही महिलाओं को जागरूक किया गया
बसंत कुमार गुप्ता

गुमला. वैश्विक महामारी घोषित नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के मद्देनजर देशव्यापी अनलॉक-01 की अवधि 01 जून से 30 जून 2020 तक निर्धारित की गई है। आज सिसई प्रखंड के सभी क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रही महिला प्रवासी श्रमिकों के बीच सैनिटरी पैड का वितरण किया गया। सिसई प्रखंड प्रशासन की पहल पर सरस्वती विद्या मंदिर स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर में महावारी स्वच्छता के विषय में वहां रह रही महिलाओं को जागरूक किया गया।

इस अवसर पर प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रवीण कुमार ने बताया कि विगत 28 मई को विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस मनाया गया था। उस दिन उन्हें महसूस हुआ क्वॉरेंटाइन केंद्र में रह रही महिलाओं को लॉकडाउन के कारण नैपकिंस मिलने में परेशानी हो रही होगी इसलिए उनके लिए यह व्यवस्था करनी जरूरी है। प्रखंड स्तर पर कोरोना प्रभावितों की मदद के लिए लोकल फंड रेजिंग की गई है। उसी फंड से उन्होंने क्वॉरेंटाइन में रह रही महिलाओं के लिए सैनेटरी नैपकिन खरीदने का फैसला लिया। माहवारी से जुड़ी समस्याओं तथा महावारी के दौरान स्वच्छता एवं सावधानियां बरतने के लिए महिलाओं को जागरूक करने के लिए उन्होंने स्वास्थ्य विभाग एवं जेएसएलपीएस की रिजवाना खान से संपर्क कर महिलाओं को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने तथा उनके बीच इन सामग्रियों के वितरण का निर्णय लिया। इसके साथ ही बीडीओ प्रवीण कुमार ने कहा कि प्रखंड प्रशासन प्रवासी श्रमिकों की हर समस्या के लिए संवेदनशील है तथा यथासंभव उनकी हर समस्या का निराकरण करने का प्रयास कर रही है।

वहीं रेफरल अस्पताल सिसई की प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ नमिता द्वारा महिलाओं को महावारी के दौरान स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की सलाह दी गई तथा उन्हें बताया गया कि महावारी के दौरान स्वच्छता का ख्याल नहीं रखने पर यूटीआई इन्फेक्शन सहित कई बिमारियां हो सकती हैं तथा कभी-कभी प्रजनन क्षमता पर भी इसका दुष्प्रभाव पड़ सकता है।

वहीं जेएसएलपीएस की रिजवाना खान द्वारा फोटो के माध्यम से महावारी के दौरान रखने वाली सावधानियों तथा स्वच्छता के विषय में बताया गया। साथ ही महावारी के दौरान महिलाओं को किस प्रकार का आहार लेना चाहिए इस पर भी विस्तृत जानकारी दी गई। इसके तत्पश्चात् महिलाओं के बीच सुरक्षा किट भी प्रदान किया गया जिसमें मास्क, सैनिटाइजर, कार्बोलिक साबुन, बिस्किट तथा सैनिटरी पैड्स शामिल हैं।

मौके पर प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रवीण कुमार, रेफरल अस्पताल सिसई की प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉक्टर नमिता लकड़ा, एनएम सुषमा कच्छप एवं जेएसएलपीएस की रिजवाना खान व अन्य उपस्थित थे।