चक्रवात यास का जिले में दिखा असर, 36 घंटे से लगातार बारिश से जन जीवन अस्त व्यस्त, फसलों को भारी नुकसान

दर्जनों कच्चे घर हुए ध्वस्त, नदियों के जल स्तर बढ़ने से कई गांव बने टापू
चतरा/पत्थलगडा/कुंदा/प्रतापपुर। चक्रवात यास का असर चतरा में भी जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण क्षेत्र तक दिया। बिते 36 घंटे से संपूर्ण जिले में लगातार बारिश हो रही है। हालांकी जिला प्रशासन विशेष सतर्कता का निर्देश जारी करते हुए संभावित आशंकाओं को लेकर व्यापक तैयारियां की है। वहीं लागतार बारिश से जिले में जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है और फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। जबकी भारी वर्षा से जिले के पत्थलगडा, गिद्धौर, कुंदा, इटखोरी व कान्हाचट्टी आदि प्रखंडों में दर्जनों कच्चे घर ध्वस्त हो गए हैं और प्रभावित परिवार पास पड़ोस में रह रहे हैं। वहीं कुंदा, पत्थलगडा, सिमरिया, कान्हाचट्टी प्रखंड के कई नदियों के जल स्तर बढ़ने से दर्जनों गांव टापू में तब्दील हो गए हैं। दुसरी ओर बारिश के साथ ही बिजली आपूर्ति व्यवस्था भी जिले में चरमरा गई है। जिला मुख्यालय को छोड़ लगभग प्रखंडों में विद्युत आपूर्ति बाधित है। पिछले 36 घंटे से गिद्धौर, पत्थलगडा, सिमरिया व लावालौंग में बिजली की आपूर्ति ठप है। लगातार बारिश के कारण मूंग, मिर्च सहित अन्य फसलों को भारी छती पहुंची है।