डालसा समाज के सभी वर्गों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है: राजश्री अपर्णा कुजूर

रामगोपाल जेना
चाईबासा: आजादी का अमृत महोत्सव के तहत नालसा एवं झालसा के निर्देशानुसार डालसा पश्चिमी सिंहभूम के अध्यक्ष सह प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश मनोरंजन कवि के निर्देश पर कुमारडूगी प्रखंड के कार्यालय परिसर में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रुप में प्राधिकार की सचिव राजश्री अपर्णा कुजूर ने हिस्सा लिया तथा 1040 की संख्या में उपस्थित जनसमूह को विधिक सेवाओं के बारे में विस्तार से बताया, उन्होंने उपस्थित जनसमूह को बताया कि महिलाओं, बुजुर्गों, बच्चों, असहाय लोगों, एसटी तथा एससी के लिए डालसा के द्वारा विशेष सेवाएं प्रदान की जाती है, लोगों को डालसा के द्वारा दी जा रही सुविधाओं की जानकारी होनी चाहिए, अपने सुलहनीय मामलों के निष्पादन के लिए डालसा से संपर्क भी करना चाहिए । इस मौके पर प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी ऋषि कुमार ने डायन प्रथा जैसे अंधविश्वास से बचने को प्रेरित किया तथा बताया कि किसी भी महिला को डायन बिसाही कहना अपराध है और ऐसा करने पर उन्हें सजा हो सकती है। कार्यक्रम में प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्राथमिक चिकित्सा पदाधिकारी, सर्किल ऑफिसर और पीएलवी मोहम्मद शमीम, ननकु मुंडा व राउतु हेंब्रम ने भी हिस्सा लिया। उपरोक्त जानकारी डालसा पश्चिमी सिंहभूम की सचिव राजश्री अपर्णा कुजूर ने दी।