आईटीबीपी के शहीद जवान का शव पहुंचा पैतृक घर

– अंतिम विदाई में उमड़ी लोगों की भीड़
विजय कुमार की रिपोर्ट
मेहरमा : प्रखंड के पहाड़खंड हुलुकपुर गांव के रहने वाले भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवान मिथुन कुमार दास का शव मंगलवार को गांव पहुंचते ही माहौल गमगीन हो गया। जवान के अंतिम दर्शन के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा।
मालूम हो कि ओडीशा के मधुरई में तैनात भारत तिब्बत सीमा बल के जवान मिथुन कुमार दास का बीते रविवार को इलाज के दौरान मौत हो गई थी। उनका शव ओडीशा प्रशासन की मदद से मेहरमा प्रखंड के हुलुकपुर पैतृक आवास लाया गया।
मिली जानकारी के अनुसार, शहीद जवान बीते लगभग दस दिनों से डेंगू मलेरिया से ग्रसित थे। इलाज के दौरान शहीद हो गए। मंगलवार को शव मेहरमा थाना पहुंचते ही अंतिम दर्शन के लिए आसपास के गांवों से हजारों लोगों का भीड़ उमड़ पड़ी। शव पहुंचने पर शहीद जवान की पत्नी एवं उनके परिजन दहाड़ मार कर रो रहे थे। महागामा के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी एसएस तिवारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी कुमार अभिषेक, अंचल अधिकारी सुनील कुमार एवं ओडीशा से आए दर्जनों पुलिस के जवान भागलपुर के कहलगांव गंगा घाट पर विधिवत तरीके से राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

इधर शहीद जवान के अंतिम यात्रा में जिला के वरीय अधिकारियों के नहीं पहुंचने पर परिजनों ने नाराजगी जाहिर की है। साथ ही राज्य सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। शहीद जवान के पिता एवं उनके भाई कह रहे थे कि देश की रक्षा करने वाले जवान को सम्मान नहीं दिया गया और न सरकार के द्वारा किसी प्रकार की मदद का भरोसा दिया गया है।