गोड्डा विधायक पर भागलपुर में जानलेवा हमला

– विधायक अमित मंडल ने जताया अंदेशा: राजनीतिक प्रतिद्वंदिता के कारण किया गया हमला
– घटना के दूसरे दिन विधायक की खैरियत जानने के लिए लोगों का लगा तांता

गोड्डा से अभय पलिवार की रिपोर्ट
गोड्डा: गोड्डा विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के विधायक अमित मंडल पर बुधवार की रात बिहार के भागलपुर ( तिलकामांझी थाना क्षेत्र) स्थित आवास पर जानलेवा हमला किया गया। घटना उस वक्त घटी जब दो तीन युवक उनके आवास के मुख्य दरवाजे से अंदर जाने की कोशिश कर रहे थे। विधायक ने जब गलत नियत से आवास में घुस रहे युवकों को पकड़ने की कोशिश की तो उन पर ईट, पत्थर एवं धारदार हथियार से हमला कर दिया गया। विधायक के हाथ के अलावा छाती, पेट और पैर में भी चोट आई है। हालांकि उनकी स्थिति खतरे से बाहर बताई जा रही है।
जिस वक्त अपराधी मानसिकता के युवक विधायक के घर में घुसने की कोशिश कर रहे थे, उस समय परिवार का कोई सदस्य घर पर नहीं था। विधायक के सुरक्षाकर्मी एवं चालक अंदर खाना खा रहे थे। विधायक श्री मंडल बरामदे पर चहलकदमी कर रहे थे। उसी समय उन्होंने दो युवकों को घर के फाटक पर चढ़ते देखा। विधायक ने साहस कर अपराधियों को पकड़ने का प्रयास किया। लेकिन अपराधियों के हमले से घायल हो गए। हमले को नाकाम बनाने के लिए अंगरक्षकों ने खूब प्रयास किया। जिस कारण हमलावर भाग खड़े हुए।

घटना की जानकारी पर तिलकामांझी थानाध्यक्ष राज रतन ने मौके पर पहुंच घटना की छानबीन शुरू कर दी है। जख्मी विधायक का प्राथमिक उपचार कराया गया । इधर घटना की जानकारी पर काफी संख्या में विधायक के समर्थक उनके आवास पर जुट गए । घटना की जानकारी मिलने पर भागलपुर के सिटी एएसपी शुभम आर्या भी विधायक के आवास पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। श्री मंडल के बयान पर तिलकामांझी थाना में अज्ञात हमलावरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है।
घटना की जानकारी पर बुधवार को रात में ही काफी संख्या में विधायक के समर्थक उनके आवास पर जुट गए । गुरुवार को भी विधायक श्री मंडल के भागलपुर स्थित आवास पर खैरियत जानने के लिए समर्थकों एवं शुभचिंतकों का तांता लगा रहा। बांका के भाजपा विधायक रामनारायण मंडल भी हालचाल जानने उनके आवास पर पहुंचे।

क्या कहते हैं विधायक अमित

विधायक अमित मंडल ने दूरभाष पर इस संवाददाता से बात करते हुए अंदेशा जाहिर किया है कि इस घटना में उनके राजनीतिक प्रतिद्वंदी तथा बालू माफिया का हाथ हो सकता है। उन्होंने बताया कि बीते विधानसभा चुनाव के दौरान भी उनके राजनीतिक प्रतिद्वंदी के इशारे पर बालू माफिया द्वारा उन पर हमला किया गया था। चुनाव की बाद भी बालू माफिया के निशाने पर वह हैं। विधायक ने बताया कि वह लगातार बालू माफिया के खिलाफ आवाज बुलंद करते रहे हैं और करते रहेंगे। जबकि उनके राजनीतिक प्रतिद्वंदी बालू माफिया को संरक्षण देने का कार्य करते रहे हैं।
विधायक ने कहा कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। उन्हें अंदेशा है कि हमलावर उनके आवास की रेकी करने के मकसद से आए थे। उन्होंने कहा कि किसानों के हित में बालू माफिया के खिलाफ उनका संघर्ष जारी रहेगा।