‌केंद्रीय सतर्कता आयोग से बीएसएल के जमीन घोटाला की जांच की मांग

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो:  जनता मजदूर सभा के महासचिव साधु शरण गोप ने केंद्रीय सतर्कता आयोग के आयुक्त को गुरुवार को पत्र लिखकर भारतीय इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड ( सेल) की इकाई बोकारो स्टील लिमिटेड ( बीएसएल) में हुए कथित जमीन घोटाला की जांच कराने की मांग की है ।
उन्होंने कहा कि सेल/ बीएसएल ने नागरिक सुविधा के उपयोग के नाम पर औद्योगिक उद्देश्य की जमीन का निजी व्यवसाय के लिए दिया है। यह राष्ट्रीय सम्पदा का नुकसान है। यह जमीन घोटाला है। इसकी जांच कर देश की सम्पति को बचायें।
उन्होंने प्रमाण में बीएसएल द्वारा लोकसभा को जमीन सम्बन्धी दिये गए प्रतिवेदन और आर टी आई में दिए गये जानकारी को आयोग को प्रेषित किया है । लोकसभा में 964.705 एकड़ और आर टी आई में 962.206 एकड़ नागरिक सुविधा में देने की जानकारी बीएसएल ने दिया है, जिसमें दोनों के आंकड़ा में करीब ढाई एकड़ जमीन का अंतर है। कहा यह अंतर घोटाला की ओर इंगित कर रहा है।
उन्होंने निजी स्कूलों को दिए गए आठ आठ एकड़ जमीन कि सूची भी दिया है। और कहा कि इन स्कूलों की सी बी एस ई से मान्यता के लिए मात्र दो एकड़ जमीन की ही जरूरत है। वैसे ही अन्य ट्रस्टों को जरूरत से ज़्यादा जमीन दिया गया है ।
उन्होंने जमीन के बंदरबांट का प्रमाण में यह भी बताया कि सेक्टर 4 में क्रिकेट स्टेडियम है। उसके विस्तार के लिए बड़ा भू खण्ड भी उपलब्ध है। उसके बगल में फुटबॉल मैदान भी है। उसके वाबजूद एक ओर क्रिकेट स्टेडियम के लिए जून 21 में 20.17 एकड़ जमीन आवंटित किया गया है। सार्वजनिक जगहों पर जमीन होने के बावजूद सेक्टर 3 के आवासीय क्षेत्र में मॉल के लिए भूमि आवंटन हुआ है।
गोप ने कहा कि मेरे जैसे हजारों विस्थापित के पूर्वजों ने अपनी जमीन देश के उत्थान के लिए समर्पण किया है। उसका इस्तेमाल निजी लोगो को व्यवसाय के लिए दिया गया है। यह विस्थापितों का अपमान है।