ओबीसी छात्रों के साथ हो रहे भेदभाव पूर्ण व्यवहार: राजेश

रांची: राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार गुप्ता ने मुख्यमंत्री और राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग से मांग किया है की झारखंड टेक्निकल विश्वविद्यालय द्वारा ओबीसी छात्रों के साथ किया जा रहा आर्थिक भेदभाव दूर की जाए।
श्री गुप्ता ने कहा कि झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी में 14 विषयों में पीएचडी सत्र 2021 22 के नामांकन की जा रही है। जिसमें सामान्य व पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों के लिए आवेदन शुल्क 3000 निर्धारित की गई है। जबकि ई डब्ल्यू( सवर्ण गरीब),एसटी और एससी
वर्ग के विद्यार्थियों के लिए 1000 शुल्क निर्धारित किए गए हैं।
अन्य पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के बराबर शुल्क क्यों ली जा रही है। दूसरे तरफ ईडब्ल्यूएस वर्ग के छात्रों का शुल्क एससी एसटी वर्ग के बराबर ली जा रही है।
ईडब्ल्यूएस वर्ग के छात्र 2019 में गरीबी रेखा के अंतर्गत लाई गई है। वही ओबीसी समुदाय अर्थात अन्य पिछड़ा वर्ग जो पूर्व से सामाजिक शैक्षणिक पिछड़ेपन के कारण इन्हें आरक्षण प्राप्त है। इसलिए ईडब्ल्यूएस, एससी,एसटी के बराबर शुल्क ₹1000 ली जानी चाहिए थी।
श्री गुप्ता ने मांग किया है कि झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी के द्वारा ओबीसी समुदाय के साथ किए जा रहे आर्थिक भेदभाव का संज्ञान लिया जाए। और जानबूझकर ऐसे कृत्य करने वाले अधिकारी को दंडित भी की जाए।