जिला इंटक अध्यक्ष लखन बेरुवा ने गुवा सेल माइंस और चिड़िया माइंस का किया दौरा

मजदूरों की विभिन्न समस्याओं को लेकर जीएम बी के गिरी के संग की बैठक

मजदूरों को न्याय दिलाएंगे- इंटक अध्यक्ष लखन बिरुवा
रामगोपाल जेना
चाईबासा: सांसदगीता कोड़ा एवं पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा के दिशा निर्देश पर नव मनोनीत इंटक जिला अध्यक्ष लखन बिरुवा एवं उर्जा एवं उद्योग विभाग के सांसद प्रतिनिधि जितेंद्र नाथ ओझा ने गुआ और चिड़िया का दौरा कर पुराने इंटक के साथियों से मुलाकात की एवं मजदूरों से मिलकर उनकी समस्याओं की जानकारी हासिल की. मजदूरों की विभिन्न समस्याओं को लेकर जैसे मजदूरों के साथ हो रहे शोषण उन्हें मिलने वाले काम के बदले ठेकेदारों के द्वारा पूर्व में ही 30 से 40 हजार रुपया ले लिए जाने की शिकायत आ रही थी एवं मजदूरों से काम दिलाने के एवज में 2000 प्रत्येक माह भी लेने की शिकायत सुनने मिला. मजदूरों के बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य , प्रोन्नति, नई नियुक्ति जैसी समस्याओं को लेकर जीएम गुआ सेल माइंस के बीके गिरी एवं एजीएम पर्सनल अमित तिर्की के साथ एक औपचारिक बैठक की गई जिसमें मजदूरों की समस्या के संबंध में उनकी विभिन्न मांगों को रखी गई साथ ही मजदूरों को मिलने वाली सुविधाओं का भी जानकारी लिया गया, मजदूरों से काम के बदले ठेकेदारों के द्वारा पैसे लिए जाने की बात भी संज्ञान में एजीएम बीके गिरी को दी गई, साथ ही तत्काल रोक लगाने की दिशा में पहल करने को कहा गया.
एजीएम बी के गिरी ने शीघ्र नियुक्ति निकलने की भी बात बताएं, वार्ता के क्रम में इंटक के कमलेश गोप, विनोद सिंह, विश्वजीत , इत्यादि कई मजदूर नेता इंटक की ओर से मौजूद थे इन्होंने भी प्रबंधन के समक्ष अपनी बातें रखें.
दौरे के क्रम में चिड़िया माइंस भी जाकर वहां के इंटक के साथियों से परिचय प्राप्त किया गया एवं उनके द्वारा उठाई गई मजदूरों की समस्या के संबंध में माननीय सांसद श्रीमती गीता कोड़ा को एक पत्र दिया गया, चिड़िया माइंस के मजदूरों की मुख्य समस्या उन्हें अपनी छटनी का डर सता रहा है साथ ही मात्र 45 स्थाई मजदूर एवं 620 अस्थाई ठेका मजदूर की के बल पर माइंश चल रहा है शीघ्र ही स्थाई मजदूरों की बहाली करने की मांग रखी.
साथ ही यह भी ज्ञात हुआ कि माइंस में प्रोडक्शन तो हो रहा है लेकिन डिस्पैच नहीं हो पा रहा है कारण यह बताया गया कि नई सड़क बन रही है, जो कि 2022 तक बनकर तैयार होगी वैकल्पिक मार्ग नहीं रहने के कारण माइंस से माल बाहर नहीं जा पा रहा है ऐसे में कंपनी मजदूरों की छटनी करने का बहाना खोज रही है तत्काल अन्य वैकल्पिक मार्ग से माइंस से माल भेजने की व्यवस्था की जाने की आवश्यकता है. बैठक में मुख्य रूप से इंटक जोनल सिक्रेटरी नवल सिह, ठेका कर्मी प्रतिनिधि गणेश हरिजन, करमु लकुआ, नोयल आंगरिया, जीवन आईन , महीपाल तांती,हरीश उरांव इत्यादि मजदूर साथी ने बैठक में भाग लिया.