उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में जिलास्तरीय कोविड टास्क फोर्स की बैठक संपन्न

गुमला : वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार के नियंत्रण एवं रोकथाम के मद्देनजर उपायुक्त गुमला शिशिर कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में जिलास्तरीय कोविड टास्क फोर्स की बैठक आईटीडीए भवन के सभागार में किया गया।

कोविड-19 के तीसरे लहर से निपटने हेतु उपायुक्त ने सिविल सर्जन से सदर अस्पताल में की गई तैयारियों की समीक्षा की। इस संबंध में सिविल सर्जन ने बताया कि सदर अस्पताल के ऊपरी तल्ले में शिशुओं के लिए पीडियैट्रिक वार्ड की स्थापना की गई है। उपायुक्त ने पीडियैट्रिक वार्ड सहित कोरोना संक्रमण से प्रभावित होने वाले आम नागरिकों के ईलाज हेतु व्यवस्थित कि गए बेडों की जानकारी प्राप्त की। सिविल सर्जन ने बताया कि सदर अस्पताल में कुल 110 बेड हैं। जिसमें से 36 बेड पीडीयैट्रिक वार्ड में हैं, जबकि शेष पाइपलाइन से संचालित 74 बेड कोरोना प्रभावित मरीजों के ईलाज हेतु व्यवस्थित है। उन्होंने बताया कि पीडीयैट्रिक वार्ड के 36 बेडों में से पी.आई.सी.यू के 19 बेडों को पाइपलाइन के माध्यम से जोड़ा गया है तथा शेष 17 बेडों को ऑक्सिजन कंसन्ट्रेटर के माध्यम से जोड़ा गया है।

बैठक में उपायुक्त ने गुमला जिलांतर्गत पी.एस.ए.प्लांट (ऑक्सीजन प्लांट) की अधिष्ठापना की समीक्षा की। सिविल सर्जन ने बताया कि पी.एस.ए. प्लांट की अधिष्ठापना हेतु स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्थल चिन्हित कर लिया गया है। इसपर उपायुक्त ने सिविल सर्जन को सदर प्रखंड सहित रायडीह, घाघरा, बसिया तथा चैनपुर प्रखंडों में ऑक्सिजन प्लांट के अधिष्ठापन हेतु प्रस्ताव तैयार कर समर्पित करने का निर्देश दिया।

उपायुक्त ने फायर सेफ्टी ऑडिट की समीक्षा की। समीक्षा के क्रम में सिविल सर्जन ने बताया कि अग्निशमन विभाग को लेखा परीक्षा हेतु सभी आवश्यक कागजात उपलब्ध करा दिए गए हैं, किंतु ऑडिट हेतु आवश्यक नक्शा नहीं होने के कारण ऑनलाइन फायर सेफ्टी ऑडिट नहीं हुई है। इसपर उपायुक्त ने सिविल सर्जन को अगले एक सप्ताह के अंदर ऑफलाइन फायर सेफ्टी ऑडिट सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

बैठक के क्रम में उपायुक्त ने जिला एवं प्रखंड स्तरीय सभी कोविड टीकाकरण केंद्रों पर सेल्फि प्वाइंट अधिष्ठापित कर फोटोग्राफ्स के माध्यम से प्रतिवेदित करने का निर्देश दिया।

बैठक में उपायुक्त ने 18 प्लस एवं 45 प्लस लाभार्थियों के टीकाकरण की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने वैसे 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लाभार्थियों, जिनका दूसरा डोज लंबित है, का डाटा संबंधित एएनएम से प्राप्त करते हुए उन लाभार्थियों का दूसरा डोज सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया। उपायुक्त ने लाभार्थियों का द्वितीय डोज सुनिश्चित कराने के कार्य में सभी चिकित्सकों एवं एएनएम को संलग्न करने का निर्देश दिया।

उपायुक्त ने ऑक्सिजन कंसन्ट्रेटर की जानकारी प्राप्त की। बताया गया कि वर्तमान में जिले में कुल 206 ऑक्सिजन कंसन्ट्रेटर उपलब्ध हैं। इसपर उपायुक्त ने प्रखंडों के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को उपलब्ध कराए जाने वाले ऑक्सिजन कंसन्ट्रेटरों का पूर्ण चिकित्सीय उपयोग करने का निर्देश दिया।

बैठक में उपायुक्त ने आगामी 22 जून को होने वाले विशेष कोविड जाँच अभियान के तहत अधिक से अधिक कोविड जाँच सुनिश्चित करने पर जोर दिया। साथ ही उन्होंने सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, एएनएम एवं सीएचओ के माध्यम से जाँच कार्य सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया। इसके अलावा अन्होंने सभी आंगनबाड़ी सेविकाओं को 10-10 जाँच किट उपलब्ध कराते हुए उन्हें भी कोविड जाँच हेतु प्रशिक्षित करने का निर्देश स्वास्थ्य विभाग को दिया। उन्होंने टीकाकरण टीम को भी कोविड जाँच में सक्रियता से लाभार्थियों का कोविड जाँच भी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

उपायुक्त ने जिला कोविड अस्पताल में निर्बाध विद्युत व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया। इस संबंध में उन्होंने अस्पताल में जेनरेटर की वैकल्पिक व्यवस्था भी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

बैठक में उपायुक्त ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा किसी भी कोरोना संक्रमित मरीज को होम आईसेलेशन में नहीं रखने संबंधी दिशा-निर्देश प्राप्त है। इसके आधार पर उन्होंने सिविल सर्जन को जिले में नए कोरोना संक्रमित मरीजों को संस्थागत क्वारनटाइन में ही रखने का निर्देश दिया।

बैठक में उपायुक्त ने सदर अस्पताल में शौचालय, पेयजल सहित, जाँच लंबंधी संसाधनों एवं चिकित्सीय उपकरणों की आवश्यकतानुसार प्रस्ताव तैयार करने का निर्देश दिया।

बैठक में अपर समाहर्त्ता सुधीर कुमार गुप्ता ने सदर अस्पताल की स्वास्थ्य सुविधाओं को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से आई.पी.एच.एस के अनुसार सदर अस्पताल में आवश्यक चिकित्सीय संसाधनों तथा उपलब्ध चिकित्सीय संसाधनों की विवरणी प्रतिवेदित करने का निर्देश दिया। साथ ही सदर अस्पताल में सार्वजनिक शौचालय, पार्किंग एरिया सहित स्टाफ क्वार्टर की मरम्मति का आंकलन कर प्रतिवेदित करने पर जोर दिया।

उपस्थिति: बैठक में उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा, सिविल सर्जन डॉ.विजया भेंगरा, अपर समाहर्त्ता सुधीर कुमार गुप्ता, जिला शिक्षा पदाधिकारी सह जिला शिक्षा अधीक्षक सुरेंद्र पाण्डेय, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी देवेंद्रनाथ भादुड़ी, जिला समाज कलयाण पदाधिकारी सीता पुष्पा, डब्लू.एच.ओ के एस.एम.ओ डॉ.मृत्युंजय, डीपीएम स्वास्थ्य जया रेशमा खाखा, डीपीएम जेएसएलपीएस मनीषा सांचा, जिला डाटा मैनेजर राजीव कुमार, एच.टी.एफ जिधान संदीप कर्री, जिला युवा समन्वयक नेहरू युवा केंद्र व अन्य उपस्थित थे।