रामगढ़ जिले में अवैध कारोबार पर रोक लगाए जिला पुलिस कप्तान : ममता देवी

रामगढ़ से वली उल्लाह की रिपोर्ट

रामगढ़: रामगढ़ विधायक ममता देवी ने रामगढ़ जिला पुलिस प्रशासन पर कई तरह के गंभीर आरोप लगाये है। उन्होंने कहा कि ऐसी सूचनाएँ लगातार मिल रही है कि रामगढ़ जिले में कई तरह के अवैध कारोबार पुलिस की मिलीभगत से दिनदहाड़े की जा रही है । क्षेत्र भ्रमण के दौरान लगातार शिकायतें मिलती रही है कि रामगढ़ जिले में कोयला,लोहा, पत्थर ,बालू सहित जिले में अवैध रूप से रेलवे साइडिंग ,पत्थर क्रेशर, कबाड़ी, रात के अंधेरे में रामगढ़ एवं सांडी के कल कारखानों में अवैध कोयले के कारोबार बदस्तूर जारी है। अवैध कोयले के बल पर जिले में सैकड़ों ईट भट्ठे चल रहे हैं ।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि जिला पुलिस के कई थानों में लोगों को परेशान करने, सीधे साधे लोगों को दुर्व्यवहार करने और लोगो की शिकायतों को नही सुना जा रहा है। यहाँ तक कि जनप्रतिनिधियों के साथ भी दुर्व्यवहार की शिकायतें आ रही है जो अस्वीकार्य हैं। हाल ही में पुलिस महानिदेशक ने लोगो और जनप्रतिनिधियों से प्रोटोकॉल को पालन करते हुए सम्मान करने का निर्देश जारी किया है।  लेकिन जिले में पुलिसिया आतंक के कारण लोग लगातार आवाज उठाते रहे है। किसी थाने में लोगों को जाना और बात करना मुश्किल हो गया है।
अभी विगत दिनों कुज्जू पुलिस के द्वारा कोयला लदे 7 गाड़ियों को जप्त कर छोड़ दिया था। इसपर अबतक क्या कार्रवाई हुई है लोगों के बीच कोई जानकारी नहीं दी गई है जो कि खेदजनक है।

जिले के अंदर कई कल कारखाने चल रहे हैं । उन कारखानों में अवैध कागजातों के बल पर कोयला, लोहा, आयरन ओर ,स्क्रैप खपाया जा रहा है। ऐसी चर्चा है कि बदले में प्रति माह मोटी रकम कारखाना मालिकों से पुलिस के द्वारा वसूल किया जाता है।

जिले के अंदर सीसीएल के क्षेत्र में जितने भी लोकल सेल चल रहे हैं, सभी में पुलिस की संलिप्तता का संदेह है। इसीलिए लोग हाई पावर कमिटी, तो कोई विस्थापन कमेटी और कई कमेटियों के नाम पर पुलिस की संलिप्तता से गरीबों की मजदूरी को बंदरबांट किया जा रहा है। राज्य सरकार से लगातार शिकायत करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। इसीलिए जिले के पुलिस पदाधिकारियों के मनोबल बढ़ा हुआ है।

विधायक ने कहा अगर जिले में अवैध कोयले के कारोबार बंद है तो लगातार अवैध खदानों में लोगों की मरने की शिकायत रजरप्पा से लेकर लईयो तक क्यों मिल रही है ? पुलिस की संलिप्तता के चलते जिले में माफियाओं का राज कायम होता दिख रहा है। विधि व्यवस्था चौपट हो चुकी है। दिनदहाड़े गोलियां चलाई जा रही है। निर्दोष मारे जा रहे हैं ।लेकिन इसे रोक पाना जिला पुलिस के बस में नहीं है।

अगर समय रहते जिले के तमाम अवैध कारोबार पर रोक नहीं लगाई जाती है तो हम सड़कों पर उतरेंगे। अवैध कारोबार को रोकने एवं उसमे शामिल पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करने, चरमराती विधि व्यवस्था एवं पुलिसिया आतंक के खिलाफ जल्द ही जन आंदोलन किया जाएगा।