इस गांव में सड़क नहीं होने के कारण खाट पर मरीज को ले जाने को मजबूर हुए परिजन

कामिल की रिपोर्ट
बसंतराय: प्रखंड क्षेत्र के सांचपुर सांखी पंचायत अंतर्गत कित्ता केंदुआ गांव के मूलभूत सुविधा नहीं मिल पा रही है।गांव में सड़क नहीं रहने से मरीज को खाट पर ले जाने को मजबूर होना पड़ता है। बताया जाता है कित्ता केंदुआ निवासी निलेश कुमार मुर्मू पिता रामकुमार मुर्मू के बीमार पड़ गए उसकी हालत बिगड़ता देख ग्रामीणों ने खाट को ही एंबुलेंस बनाकर 4 किलोमीटर पैदल लेकर प्रखंड मुख्यालय अस्पताल इलाज के लिए लाया गया। गुरुवार को जानकारी देते हुए स्थानीय रंजू कुमारी बेसरा ने बताया की आजादी से लेकर के अब तक गांव को मुख्य सड़क से नहीं जोड़ा गया है। जबकि प्रखंड मुख्यालय से गांव की दूरी महज 4 किलोमीटर है।आदिवासी बाहुल्य गांव आज भी सड़क विहीन है। गांव की रंजू बेसरा ने बताया झारखंड प्रदेश में लगातार दो दशक तक आदिवासीयो का प्रतिनिधित्व रहा है। बावजूद आदिवासी बाहुल्य गांव का भी हालात नहीं बदला। जबकि सड़क निर्माण कराने को लेकर कई बार प्रदेश के मुख्यमंत्री से समस्या बताई गई। सड़क की मांग को लेकर प्रखंड कार्यालय में कई बार प्रदर्शन कर चुके है। उन्होंने बताया कि गांव में जब भी कोई सक्स बीमार पड़ता है तो खाट को ही एंबुलेंस बनाकर ग्रामीणों की मदद से प्रखंड मुख्यालय ले जाना पड़ता है। बताते चलें कि गोड्डा विधान सभा से भाजपा विधायक अमित मंडल लगातार दूसरी बार विधायक हैं। वहीं भाजपा सांसद डॉ निशिकांत दुबे लगातार तीसरी बार सांसद बनने में कामयाब हुए हैं। स्थानीय लोगों ने बताया किसी जनप्रतिनिधि के द्वारा सड़क बनाने की दिशा में कोई पहल नहीं किया गया। जबकि अनेकों बार सड़क की मांग को लेकर ग्रामीण प्रदर्शन कर चुके है।स्थानीय लोगो ने प्रदेश के मुख्यमंत्री से जल्द सड़क निर्माण कराने की मांग की है ताकि नारकीय जीवन जीने को विवश लोगो के हालात बेहतर हो सके।