दुर्गा माँ का गहना विवाद : संजय मिश्रा ने कहा- कमलदेव गिरी अपने हरकतों से बाज आये

रामगोपाल जेना
चक्रधरपूर: भाजपा जिला मिडिया प्रभारी संजय मिश्रा ने सोमवार को पुरानी रांची रोड स्थित मोदी कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर कहा कि गिरीराज सेना के प्रमुख कमलदेव गिरी श्याम नारायण शौंडिक धर्मशाला पूजा कमेटी में मां दुर्गा का जेवर रखने को लेकर बेवजह विवाद व मारपीट की घटना कर धार्मिक ठेस पहुंचाने का काम किया है. लंबे समय से पूजा कमेटी के पुराने सदस्य अशोक साव के आवास में मां दुर्गा का जेवर रहते आ रहा है. इसमें किसी तरह का कोई विवाद का जगह नहीं है. लेकिन श्री गिरी जेवर रखने की विवाद को जन्म देकर महिलाओं को सिंदूर खेलने से रोका, मुर्ति विसर्जन नहीं करने की बाद कही. मारपीट की घटना की विडियो को दिखाते हुये श्री गिरी अपने हरकतों से बाज आये. कमेटी के बुढ़ा बुर्जगों के साथ मारपीट कर क्या साबित करना चाहते. थाना में जेवर रखना पुरी तरह अनुचित है. जहां जेवर रहता है, वहीं रहना चाहिये. शौंडिक धर्मशाला में 1944 से प्रतिमा स्थापित होते आ रही है. कभी भी पूजा में व्यवधान व विवाद नहीं हुआ. लेकिन जब से कमलदेव गिरी उस पूजा पंडाल में सदस्य बने तब से विवाद हो रहा है. विधायक द्वारा 21 हजार रूपये प्रत्येक पूजा पंडाल को दिया गया. लेकिन कमलदेव गिरी ने लेने से इंकार कर दिया. जो पुरी तरह गलत बात है. कमलदेव शहर के कई स्थानों में मारपीट कर हमेशा विवाद में रहे है. उमेश गुप्ता शौंडिक धर्मशाला के ट्रस्टी है. उस पर चोरी करने का आरोप लगाया गया. जबकि जेवर चोरी नहीं हुयी थी. इससे यह साबित होता है कि कमलदेव गिरी शौंडिक धर्मशाला को अपने कब्जे में करना चाहते है. उन्होंने चेतावनी देते हुये है कि भविष्य में यदि कमलदेव गिरी द्वारा विवाद उत्पन्न करने है तो भाजपा व उनके द्वारा बख्शा नहीं जायेगा.