योजनाओं के क्रियान्वयन में स्थानीय श्रमिकों को दिया जाए रोजगार: मंत्री

गढ़वा से नित्यानंद दुबे की रिपोर्ट

गढ़वा : पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, झारखंड सरकार के मंत्री , मिथिलेश कुमार ठाकुर के द्वारा आज रंका प्रखंड कार्यालय परिसर में रंका- रमकंडा एवं सीमावर्ती ग्रामों हेतु वृहद ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना का शिलान्यास किया गया, जिसके बाद दीप प्रज्वलित कर उन्होंने कार्यक्रम की शुरुआत की।

मंत्री ने मंच पर उपस्थित जनप्रतिनिधियों, पदाधिकारियों व क्षेत्र की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि आज ऐतिहासिक दिन है, बहुत बड़ी जलापूर्ति योजना का शिलान्यास किया जा रहा है। लेकिन यह शिलान्यास औपचारिकता मात्र है क्योंकि इस योजना का कार्य पहले ही प्रारंभ हो चुका है। कोरोना के प्रकोप को देखते हुए शिलान्यास कार्य को प्राथमिकता न देते हुए योजना का कार्य प्रारंभ करा दिया गया था, जिसका शिलान्यास आज रंका प्रखंड कार्यालय परिसर में किया गया। माननीय मंत्री ने कहा कि जनता को योजनाओं का लाभ समय से मिलना हमारी प्राथमिकता है मेरा प्रयास है कि जल्द से जल्द जनता को इस योजना को पूर्ण करते हुए समर्पित किया जा सके। इसके तहत योजना के श्रोत अन्नराज डैम से यहां पानी आएगा जिसे प्लांट की मदद से शुद्ध करते हुए लोगों के घर तक नल से शुद्ध जल पहुंचाया जाएगा। बताते चलें कि लगभग 62 करोड़ की लागत से इस योजना को पूर्ण किया जाएगा। इस योजना से रंका प्रखंड के 21 ग्राम एवं रमकंडा प्रखंड के 9 ग्राम को मिलाकर लगभग 8967 घरों में शुद्ध पेयजल मुहैया कराया जाएगा, इस प्रकार इस जलापूर्ति योजना से लगभग 62268 आबादी शुद्ध पेयजल से आच्छादित होगी।

मंत्री ने कहा कि इस योजना से न केवल लोगों के स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा बल्कि बाहर से ढोकर पानी लाने में लगने वाले समय की भी बचत होगी जिससे, खासकर हमारी माताओं- बहनों का समय बचेगा और वह इस मूल्यवान समय का उपयोग अन्य कार्य में कर सकेंगी। अब हमारी माताओं- बहनों को सड़क पर निकल कर पीने के पानी की तलाश में इधर-उधर भटकना नहीं होगा बल्कि शुद्ध पेयजल उनके घर पर नल के माध्यम से उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि सरकार दिन-रात गरीब, असहाय तथा समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्तियों के कल्याण के लिए प्रयत्नशील है। 2024 तक गढ़वा जिले के ही नहीं बल्कि पूरे राज्य की जनता को शुद्ध पेयजल से आच्छादित किए जाने का लक्ष्य है। योजना की पूर्णता को लेकर आगे उन्होंने कहा कि मैं यह आश्वासन दिलाता हूं कि जिस योजना का शिलान्यास करूंगा, उस योजना का उद्घाटन भी मैं ही करूंगा और योजना समय से पूरी करते हुए जनता को समर्पित किया जाएगा। रंका- रमकंडा क्षेत्र की इस वृहद ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना के संदर्भ में मैं यह बताना चाहता हूं कि इस योजना को 2 वर्ष 9 माह में पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है पर मेरा प्रयास यह है कि समय से पूर्व इस योजना को पूरा करते हुए जनता को समर्पित किया जाए ताकि लोगों की सबसे बड़ी समस्या जो कि शुद्ध पेयजल आपूर्ति की है उसका निवारण किया जा सके। उन्होंने कहा कि पूरे जिले में जहां पर सतही स्रोत जैसे कि नदी, जलाशय उपलब्ध है वहां रंका-रमकंडा ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना जैसी जलापूर्ति योजना का निर्माण कराया जाएगा, परंतु जहां पर सतही जल स्रोत उपलब्ध नहीं है वहां बोरिंग में पंप लगाकर सोलर ऊर्जा आधारित मिनी जलापूर्ति योजना के द्वारा लोगों को पेयजल से आच्छादित किया जाएगा। उक्त लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु गढ़वा जिला अंतर्गत ऐसी 12 बड़ी योजनाओं को स्वीकृत कर कार्य कराया जा रहा है एवं 24 अद्द योजनाओं की स्वीकृति प्रक्रियाधीन है तथा लगभग 1000 से भी अधिक छोटी योजनाओं पर भी कार्य किया जा रहा है।

मंत्री ने कहा कि इस महामारी के समय में इतनी बड़ी संख्या में योजनाओं के क्रियान्वयन से न सिर्फ पर्याप्त मात्रा में शुद्ध पेयजल उपलब्ध होगा बल्कि बड़ी संख्या में अन्य राज्यों से लौटे श्रमिकों को काम भी मिलेगा। मैंने इस डिवीजन के अभियंताओं को खास करके इस संदर्भ में निर्देशित किया है कि क्षेत्र के मजदूरों को ही कार्य में लगाया जाए। जिस कार्य में उक्त क्षेत्र के मजदूर सक्षम है उसमें यही के लोगों को लगाया जाए तथा उन्हें उचित मेहनताना दिया जाए। मुझे आशा है कि मेरे इस प्रयास से अच्छे स्वास्थ्य के साथ-साथ हमारे ग्राम वासियों को स्थानीय स्तर से रोजगार दिलाने में मदद मिलेगी।

इन सभी कार्यों में हमें जनता के सहयोग की अपेक्षा है ताकि किसी तरह की अनियमितता ना हो। जनता ने हमें जो जिम्मेदारी दी है, उसे भली-भांति निभाना है। जनता मेरे लिए सर्वोपरि है। चाहे पेयजल हो या उचित स्वास्थ्य सुविधा, सड़क, पेंशन या रोजगार.. जनता की सभी समस्याओं का समाधान करने के लिए मैं निरंतर प्रयासरत हूं और हमेशा रहूंगा।

मौके पर माननीय मंत्री श्री मिथिलेश कुमार ठाकुर के अलावा मुख्य रूप से प्रखंड विकास पदाधिकारी रंका, अंचल अधिकारी रंका, कार्यपालक अभियंता पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल गढ़वा, अधीक्षण अभियन्ता मेदनीनगर, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी गढ़वा, जनप्रतिनिधि समेत अन्य उपस्थित थे।