गरीबों को मुफ्त में मिलने वाले राशन पर डीलरों का डाका

– एमओ के संरक्षण में डीलर कर रहे गड़बड़झाला
– कार्डधारियों ने टीम गठित कर उपायुक्त से की जांच की मांग

विजय कुमार की रिपोर्ट

मेहरमा : ठाकुरगंगटी प्रखंड के माल तेतरिया पंचायत में जन वितरण प्रणाली की दुकान के माध्यम से गरीबों और मजदूरों को दिए जाने वाले राशन पर डीलर डाका डालने का कार्य कर रहे हैं। डीलरों की मनमानी स्पष्ट संकेत दे रही है कि प्रखंड खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी की मिलीभगत से डीलर गरीबों के हक पर खुलेआम डाकेजनी कर रहे हैं।
वैश्विक महामारी कोरोना के कारण प्रभावित गरीबों को राहत पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत कुछ माह तक के लिए प्रतिमाह प्रति यूनिट 5 या 10 किलो अनाज मुफ्त देने का प्रावधान किया गया है। लेकिन मुफ्त में मिलने वाले अनाज को एमओ का संरक्षण प्राप्त डीलर घटक जा रहे हैं। राशन बांटने का सरकारी आदेश डीलरों के लिए मोटी कमाई का जरिया बन गया है।
आपदा की स्थिति में सभी राशन डीलरों को प्रतिमाह दो बार अलग-अलग योजना के तहत चावल का उठाव दिया जा रहा है। लेकिन जन वितरण प्रणाली की डीलर गीता भारती की मनमानी के कारण सितंबर माह में एक बार ही चावल वितरण का मामला प्रकाश में आया है। डीलर की मनमानी से परेशान तेतरिया, बरैयाचक गांव के तीन दर्जन से अधिक लाभुकों ने डीलर पर सितंबर माह में दो बार चावल उठाव के बावजूद एक बार ही चावल वितरण करने समेत डीलर पर अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाया है।
अधिकतर राशन कार्ड धारियों ने डीलर पर यह भी आरोप लगाया है वितरण ई पोस मशीन पर कार्डधारियों से तीन बार अंगूठा लगवाकर एक बार ही चावल वितरण किया गया है।
डीलर की मनमानी के खिलाफ कार्ड धारियों में बुधवार को गुस्सा फूट गया और उन्होंने विरोध जताते हुए डीलर के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। राशन कार्डधारी कलावती देवी, राज कुमार राय, मनोरमा देवी, लक्ष्मी देवी, पंचो यादव, अष्टमा देवी, सिकंदर राय समेत दो दर्जन से अधिक कार्डधारियों ने उपायुक्त से जांच कर दोषी डीलर के विरुद्ध कार्रवाई का मांग किया है। ग्रामीणों ने कहा कि अगर किसी अधिकारी के द्वारा डीलर के विरुद्ध कार्रवाई करने की वजह उसे संरक्षण दिया गया तो प्रखंड मुख्यालय का घेराव किया जाएगा।