एंथोनी के प्रयास से गिरी दास को मिली नई जिंदगी

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: मानव सेवा के लिए प्रख्यात एंथोनी फर्नांडो ने एक बार फिर एक असहाय की मदद की है. जानकारी के मुताबिक चक्रधरपुर नगर परिषद क्षेत्र अंतर्गत इतवारी बाजार स्थित गुजा बांग्ला में 55 वर्षीय गिरी दास पिछले 3 महीने से मौत और जिंदगी से जुझ रहा था. उसके दाएं पैर के घुटने पर एक बड़ा सा जख्म होकर मवाद और पस निकल रहा था. जिस कारण 3 महीने से वह बिस्तर पर पड़ा रहा. पल-पल मौत के करीब जा रहा था. 6 दिनों पहले गिरी दास के हालत की जानकारी भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी के पेट्रोन एंथोनी फर्नांडो को मिला. वह गिरी दास के घर गए और हालात का जायजा लिया. दायां पैर का घुटना पूरी तरह सड़ चुका था. बर्तन भर भर कर मवाद रिस रहा था. एंथोनी ने स्वयं उसकी ड्रेसिंग व मरहम पट्टी शुरू किया. 4 दिनों तक लगातार मरहम पट्टी करने के बाद जब उसकी हालत में थोड़ा सुधार आया तो सेवा निवृत्त ड्रेसर नंदू दास की सेवा ली गई. उन्होंने ज़ख्म को चीर फाड़ कर मवाद को बाहर निकाला. गिरी दास का हेमोग्लोबिन 4.5 था. उसे रक्त चढ़ाने की अति आवश्यकता महसूस की गई. उसकी स्थिति नाजुक होने के कारण रक्त दाताओं की तलाश की गई. रक्त का समूह बी पॉजिटिव था. दो रक्त दाताओं ने उन्हें रक्त देने की सहमति दी. महेश तांती और अविनाश राव चाईबासा ब्लड बैंक जाकर रक्त दिए. 1 यूनिट रक्त एंथोनी ने सदर अस्पताल चाईबासा से ला कर दिया. गिरी दास को भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी के एंबुलेंस के सहयोग से संत अंजला अस्पताल चक्रधरपुर में दाखिल कराया. जहां वह फिलहाल इलाजरत है. 1 यूनिट रक्त रविवार को चढ़ाया जा चुका है और दो यूनिट रक्त सोमवार को रक्त दाताओं के सहयोग से प्राप्त हुआ. एंथोनी फर्नांडो द्वारा गिरी दास के इलाज में अब तक लगभग 10000 रुपये खर्च कर दिए गए हैं. एक्स-रे, दवाइयां, रक्त, सुई और अस्पताल का खर्च सभी चीजें वह स्वयं मुहैया करा रहे हैं. गिरी दास के इलाज में बेनेडिक्ट धरवा, गंगाधर बंदकी, प्रेमांशु राय चौधरी और रोहित कुमार आदि ने सहयोग प्रदान किए.