आराहंगा गांव में सेंटर फॉर केटेलाइजिंग चेंज के सहयोग से ग्राम सभा का हुआ आयोजन

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: प्रखंड के आराहंगा गांव में सेंटर फॉर केटेलाइजिंग चेंज के सहयोग से ग्राम सभा का आयोजन किया गया जिसमें बाल विवाह,मानव तस्करी, डायन प्रथा तथा स्कूल ड्रॉपआउट जैसी समस्याओं पर चर्चा की गई इस ग्राम सभा के आयोजन में ग्रामीण किशोर-किशोरियों की भूमिका अहम थी. किशोर -किशोरी समूह के पियर एजुकेटर सूरज बनकीरा तथा भवानी बनकीरा ने ग्रामीण मुंडा पंचायत मुखिया पंचायत सचिव की उपस्थिति में मुंडा की अध्यक्षता में ग्राम सभा का संचालन किया. सी थ्री की प्रखंड संयोजक दल गोविंद ने सबका स्वागत करते हुए कहा कि किशोर किशोरीयों के लिए बाल एंव महिला ,समाज कल्याण विभाग, स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग के कंवर्जन्स माडल के तहत जिले के 14 प्रखंडों में सी थ्री कार्य कर रही है. स्वास्थ्य, पोषण, जीवन कौशल, शिक्षा के अधिकार, लिंग भेद, मानव तस्करी की जानकारी समूह बैठक के माध्यम से दी जाती है. तत्पश्चात उपरोक्त विषयों से संबंधित एक नुक्कड़ नाटक का भी मंचन गांव के ही किशोर किशोरी समूह के द्वारा किया गया ताकि सभी ग्रामीण बाल विवाह, मानव तस्करी,स्कूल ड्रॉपआउट तथा डायन विद्या जैसे संवेदनशील मुद्दों को नाटक के माध्यम से समझा सकें. तत्पश्चात ग्राम सभा में सरकार द्वारा चलाई जाने वाली योजनाओं और प्रवधानों पर विस्तृत जानकारी दी गई. मुख्यमंत्री कन्यादान योजना मुख्यमंत्री सुकन्या योजना प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की जानकारी आंगनवाड़ी सेविका … लक्ष्मी केराई.. ने दी. कलस्टर समन्वयक ने स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से दी जाने वाली जननी सुरक्षा योजना की जानकारी दी एवं किशोर किशोरियों के लिए विशेष तौर पर आयरन फोलिक एसिड एवं जिंक की गोली, कृमि नाशक गोली, सेनेटरी पैड का वितरण किये जाने के बारे बताया. ..विद्यालय के उषा लालिमा केरकेट्टा…..द्वारा स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए स्टाइपेंड, मध्यान भोजन, साइकिल का वितरण, स्कूल-यूनिफार्म तथा पुस्तकों का वितरण का लाभ पाने के हकदार होने की जानकारी दी, उन्होंने शिक्षा के अधिकार के विषय में भी चर्चा किया तथा स्कूल प्रबंधन समिति को ग्रामीणों के अपेक्षित सहयोग के बारे में भी कहा. प्रखंड समन्वयक ने बताया कि राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम (आर के एस के) के तहत पियर एजुकेटर के लिए प्रोत्साहन राशि का प्रावधान किया गया है उन्होंने बाल विवाह विषय पर चर्चा करते हुए कहा कि कम उम्र में विवाह होने से शारीरिक और मानसिक रूप से क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं. पंचायत मुखिया श्रीमती मालती गाग राई ..ने बताया कि मानव तस्करी के द्वारा कम उम्र के लड़के लड़कियों को बहला फुसला कर दूसरे राज्यों में ले जाया जाता है जहां उनसे यौन शोषण, कम मजदूरी देना, बंधुआ मजदूरी कराना और कभी कभी जान का खतरा भी रहता है उन्होंने श्रम विभाग के द्वारा ई पोर्टल की भी जानकारी दी. ग्राम सभा समापन के पूर्व अध्यक्ष सह मुंडा श्री…. बागुन केराई….. ने सभी ग्रामीणों को शपथ ग्रहण कराया.