ग्रामीण अर्थव्यवस्था का मजबूत आधार है महुआ का फसल

पांकी से लौकेश कुमार सिंह की रिपोर्ट

पांकी: पांकी विधानसभा क्षेत्र के कोनवाई,बान्दुबार,हरना, चौफाल,बुढ़ाबार,बांकी कला,तेतराई,गोड़ियारी सहित लगभग सभी क्षेत्रों में महुआ सीजन(चुनने) का कार्यक्रम आ गया है,महुआ का सीजन आते ही ग्रामीण क्षेत्र के लोगो मे काफ़ी उत्साह हो जाते है,अक्सर लोग महुवा चुनने मे काफ़ी मेहनत करते है देखा जाय तो एक तरह से रोजगार मिल जाता है, गाँव देहात के जंगलो मे महुआ का अपना अलग ही महत्व है। पुराने जमाने से महुआ का उपयोग बहुत से औषधीय में किया जाता है।इसके अलावा इसका उपयोग इर्धन व भोजन में किया जाता है। महुआ के बारे में शायद नहीं होगा की महुवा हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है।यह बुखार,दांतो की समस्या,विषाक्त पदार्थ को बाहर निकलने में मदद करता है महुआ के पत्ती,छाल, फूल आदि उपयोगी होते है। महुआ का उपयोग कुछ राज्यों में वाइन बनाने के लिए किया जाता है।महुआ में बहुत से पोषक तत्व मौजूद होते है जो स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में मदद करते है। महुआ में बहुत से पौष्टिक तत्व उपस्थित रहते है।इसमें ऊर्जा, प्रोटीन,फैट और खनिजों में फाइबर,कार्बोहाइड्रेड,कैल्शियम, फास्फोरस,आयरन आदि से समृद्ध है।साथ बताते चलें कि महुआ का उपयोग डायबिटीज में – डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो शरीर के सभी भागो को प्रभावित करती है।डायबिटीज होने पर शरीर में अनेको लक्षण दिखाई देने लगते है। कुछ अध्ययनो में बताया गया है। महुआ की छाल से निकला अर्क मधुमेह को रोकने में फायदेमंद होता है।किंतु अभी तक यह ज्ञात नहीं हुआ की कितनी मात्रा में शुगर स्तर को नियंत्रण में रखता है।महुआ के फायदे दांतो के लिए – दांतो से जुडी समस्या को ठीक करने के लिए महुआ फायदेमंद होता है।महुआ के पेड़ की छाल से रस निकाल कर उपयोग करते है।अगर मसूड़ों से खून निकलने की समस्या आपको होती है तो महुआ के पेड़ की छाल से कुल्ला ओकरने पर ठीक हो जाते है। इसके अलावा गंभीर गले के सूजन को ठीक करने के लिए महुआ का मिश्रण फायदेमंद रहता है। कुछ अध्ययन के अनुसार एंटी-माइक्रोबियल गुण होता है जो संक्रमण को दूर करने में मदद करता है।कहा जाता है कि मिर्गी में महुआ का उपयोग – मिर्गी एक केंद्रीय मस्तिष्क संबंधित बीमारी है जो व्यक्ति को कही भी कभी भी हो जाती है।हालांकि मिर्गी की दवाई उपलब्ध है लेकिन महुआ मिर्गी का अच्छा घरेलू उपचार माना जाता है।महुआ में प्राकृतिक रूप से औषधीय होता है जो मिर्गी से छुटकारा दिलाने में मदद करता है।कुछ शोध में बताया गया है की महुआ मिर्गी की कमी लाने में मदद करता है।बहुत से मिर्गी के मरीज महुआ का उपयोग करते है क्योंकि इसमें महुआ की पत्तियों में मेथोनाल होता है।जो मिर्गी को कम करता है।बुखार को दूर करने में महुआ के फायदे – बुखार तभी व्यक्ति को होता है जब शरीर में संक्रमण बढ़ जाता है। इस वजह से शरीर की रोग प्रतिरोघक क्षमता कम हो जाता हैं।महुआ में अच्छी मात्रा में पोषक तत्व होता है।