महागामा क्षेत्र में युद्ध स्तर पर हो रहा हैंडपंप मरम्मत का कार्य

– विधायक दीपिका पांडेय सिंह अपने क्षेत्र में पेयजल संकट से लोगों को निजात दिलाने के लिए गंभीरता पूर्वक सक्रिय
अभय पलिवार की रिपोर्ट
गोड्डा: जनसमस्याओं के निदान के लिए संवेदनशील होकर तत्पर रहने वालीं महागामा की कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह इस कोरोना काल में जहां अपने क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवा को मजबूत करने के अभियान पर लगी हैं, वहीं अपने इलाके में व्याप्त पेयजल संकट से लोगों को निजात दिलाने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य कर रही हैं। अपने क्षेत्र के लोगों को पेयजल उपलब्ध कराने के लिए विधायक ईसीएल, एनटीपीसी एवं अदानी कंपनी का दरवाजा खटखटाते हुए फंड की व्यवस्था कर रही हैं, ताकि गर्मी के मौसम में क्षेत्रवासियों को पेयजल संकट का सामना नहीं करना पड़े। विधायक का प्रयास सरजमीन पर दृष्टिगोचर होने लगा है। खराब पड़े हैंडपंपों ने पानी देना शुरू कर दिया है। लोगों को पेयजल की समस्या से बहुत हद तक छुटकारा मिलना प्रारंभ हो गया है।
सुखद पहलू यह है कि कोरोना के त्रासदी काल में भी अपनी जान की परवाह किए बगैर विधायक श्रीमती सिंह एसी में बैठ कर आराम फरमाने के बदले चिलचिलाती धूप में लगातार क्षेत्र में सक्रिय रह रही हैं। जनप्रतिनिधि धर्म का बखूबी निर्वहन करते हुए इस संकटकालीन परिस्थिति में कभी पीपीई कीट पहनकर डकैता मिशन हॉस्पिटल में बनाए गए कोविड अस्पताल पहुंचकर संक्रमितों का हाल-चाल जान रही हैं। उपलब्ध चिकित्सकीय सुविधाओं का मुआयना कर रही हैं। साथ ही संक्रमितों के इलाज में तत्पर चिकित्सक एवं चिकित्सा कर्मियों का हौसला आफजाई कर रही हैं। तो कभी ऊर्जानगर स्थित ईसीएल के हॉस्पिटल में अपने प्रयास से बनवा रही 25 बेड वाले कोविड अस्पताल का मुआयना करते हुए युद्ध स्तर पर अस्पताल बनाने के लिए कर्मियों को प्रेरित कर रही हैं।
इस भीषण त्रासदी काल में विधायक श्रीमती सिंह स्वास्थ्य सुविधा एवं पेयजल के दोहरे मोर्चे पर गंभीरता पूर्वक लगी हुई हैं। इसका सार्थक प्रतिफल यह निकला है कि एक सप्ताह के अंदर महागामा विधानसभा क्षेत्र के तीनों प्रखंड महागामा, मेहरमा एवं ठाकुर गंगटी में करीब 500 हैंडपंपों की मरम्मत हो चुकी है। विधायक की योजना यह है कि जितनी जल्दी हो सके उनके क्षेत्र में खराब पड़े कम से कम एक हजार हैंडपंपों की मरम्मत हो जाए। इसके लिए फंड की व्यवस्था से लेकर सरजमीन पर हो रहे कार्यों की स्वयं मॉनिटरिंग कर रही हैं।
विधायक श्रीमती सिंह ने बताया कि 600 हैंडपंपों की मरम्मत पेयजल एवं स्वच्छता विभाग द्वारा, 125 हैंडपंपों की मरम्मत महागामा नगर पंचायत द्वारा एवं 300 हैंडपंपों की मरम्मत अदानी कंपनी के सीएसआर फंड द्वारा कराया जा रहा है। विधायक के प्रयास से ईसीएल द्वारा पेयजल एवं स्वच्छता विभाग को 10 लाख रुपए उपलब्ध कराया गया है, जिससे विभाग द्वारा हैंडपंपों की मरम्मत में लगने वाले पाइप एवं सिलेंडर पर खर्च किया जा रहा है। विधायक श्रीमती सिंह के प्रयास से एनटीपीसी द्वारा भी अपने प्रभावित क्षेत्र में 150 हैंडपंपों की मरम्मत आने वाले दिनों में करेगा।
जाहिर है महागामा विधानसभा क्षेत्र के तीनों प्रखंडों में खराब पड़े 10 – 11 सौ हैंडपंपों से निकट भविष्य में लोगों को पानी मिलना शुरू हो जाएगा। गर्मी में पानी के लिए तरस रहे लोगों को पेयजल संकट से निजात मिलना संभव हो पाएगा।
विधायक श्रीमती सिंह ने पत्रकारों को बताया कि झारखंड सरकार द्वारा क्षेत्र में 350 नए हैंडपंप लगाने के लिए टेंडर की प्रक्रिया प्रारंभ हो गई है। हर पंचायत में 5 – 5 नए हैंडपंप स्थापित किए जाएंगे। उम्मीद है कि मई के अंतिम सप्ताह या जून के प्रथम सप्ताह तक लोगों के पीने के पानी की समस्या का समाधान हो जाएगा। उन्होंने कहा कि इस कोरोना काल में भी लोगों को पेयजल संकट से निजात दिलाने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य किया जा रहा है। विधायक के कार्यों की इलाके के लोग जमकर तारीफ कर रहे हैं।