अप्रेंटिस विस्थापित युवा फिर बैठे धरना पर बीच सड़क पर बैठ किया सड़क जाम

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो: विस्थापित अप्रेंटिस संघ के बैनर तले बेरोजगार विस्थापितों ने बुधवार को बीएसएल के प्रशासनिक भवन के समक्ष मेन गेट जाने व आने वाली सड़क को पूरी तरह से जाम कर दिया। इसके पूर्व सैकडों की संख्या में विस्थापित अप्रेंटिस युवक सेक्टर चार स्थित मज़दूर मैदान में जमा हुए। जहाँ से जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए सभी प्रशासनिक भवन पहुँचे। जहाँ इन्हें रोकने के क्रम में होमगार्ड व सीआईएसएफ के जवानों के साथ नोंक झोंक व धक्का-मुक्की भी हुई। इसके बाद मेन गेट के सड़क पर सभी विस्थापित अनिश्चितकालीन धरने बैठ गए और प्रबंधन के विरूद्ध नारेबाजी करने लगे। धरना कार्यक्रम की अध्यक्षता सुनील कुमार महतो ने तHथा संचालन दुर्गा चरण महतो ने किया। कार्यक्रम को संबोधित करते वक्ताओं ने कहा कि अप्रेंटिस ट्रेनिंग पूरा करने के बाद भी हम विस्थापितों की स्थिति दिनोंदिन बद से बदतर होती जा रही है। हमारी नौबत भूखे मरने की हो गयी है। बोकारो इस्पात प्रबंधन की टाल मटोल नीति के कारण विस्थापित डिप्रेसन का शिकार हो रहे हैं। हम क्या करें, हमारे पास और कोई विकल्प नहीं है। उम्र सीमा समाप्त हो जाने के बाद अप्रेंटिस प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र हमारे लिए किसी काम की नही रहेगी। हम विस्थापित अपने हक व अधिकार की मांग को लेकर जब भी बीएसएल प्रबंधन के विरुद्ध आंदोलन करते हैं। जिला प्रशासन सकारात्मक वार्ता करवाने की बात बोल कर आंदोलन को समाप्त करवाने का काम करती है। परंतु वार्ता सकारात्मक होती नही है। परिणामस्वरूप अप्रेंटिस प्रशिक्षण पूरा कर चुके विस्थापित युवकों की नियोजन के लिए आवश्यक अधिकतम उम्र सीमा समाप्त होते जा रही है। इससे हम विस्थापितों में भारी आक्रोश है। हम बोकारो के विस्थापित जिन्होंने बोकारो इस्पात संयंत्र के निर्माण में अपना सब कुछ गंवा दिया है, अब कुछ भी नही बचा है हमारे पास जिससे अपना जीविकोपार्जन कर सके। हम भूखे मर रहे हैं और जिसने कुछ भी नही खोया हो, वो यहाँ आकर नौकरी करे ये कहीं से न्यायसंगत नही है। बीएसएल में पहले हम विस्थापितों का नियोजन सुनिश्चित होना चाहिए। उसके बाद ही किसी और का होगा। 21 अक्टूबर से बीएसएल में शुरू होने वाली स्किल टेस्ट में भाग लेने वाले अभ्यर्थियों को रोका जाएगा। इसमें होने वाली क्षतिपूर्ति की सारी जिम्मेवारी बीएसएल प्रबंधन की होगी।

संघ की मुख्य मांगे :-
1. प्लांट ट्रेनिंग पूरा कर चुके सभी विस्थापित अप्रेंटिस को बीएसएल में अविलंब सीधे बहाल किया जाये।
2. सभी विस्थापित अप्रेंटिस का प्लांट ट्रेनिंग के बाद बीएसएल में नियोजन सुनिश्चित किया जाए।
3. सभी तरह के बहालियो में विस्थापितों के लिए अधिकतम उम्र सीमा को पूर्व की भांति 45 वर्ष किया जाए।
4. तीसरी सूची तथा बाकी अन्य विस्थापितों का ट्रेनिंग अविलंब प्रारंभ करवाया जाए।
5. तीसरी सूची के प्रशिक्षुओं से जो एफिडेविट मांगा जा रहा है वह असंवैधानिक है, इसे फौरन रद्द किया जाय।