जेपीएससी नियुक्ति प्रकरण द्वारा छात्रों को छल रही रही हेमंत सरकार: राजेश महतो

रामगढ़: जेपीएससी नियुक्ति में त्रुटि से समूचा प्रदेश, ब्यूरोक्रेट्स और सरकार हलकान है।आखिर राज्य के सर्वोच्च सेवा संबंधी अधिकारी बहाल करने वाली आयोग लापरवाह और निरंकुश कैसे हो सकती है? गौरतलब हो कि छठी जेपीएससी की मेधा सूची को उच्च न्यायालय ने निरस्त कर दिया है।मेधा सूची के निरस्त होने से 326 चयनित अभ्यर्थियों का भविष्य भी अधर में लटक गया है। जेपीएससी मेधा सूची में हुई त्रुटि के विरुद्ध आजसू छात्र संघ के विनोबा भावे विश्वविद्यालय प्रभारी राजेश कुमार महतो ने आजसू छात्र संघ के प्रधान कार्यालय रामगढ़ में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वर्तमान सरकार ने जेपीएससी मेधा सूची को रद्द कर छात्रों के साथ छल किया है। राजेश कुमार महतो ने कहा कि हेमंत सरकार मेधा सूची के त्रुटि से अवगत थी। नियुक्त में आरक्षण का मसला दोषपूर्ण रहा है। राजेश महतो ने कहा कि वर्तमान सरकार ने आनन-फानन में मेधा सूची जारी कर सस्ती और झूठी उपलब्धि बटोर रही थी।मेधा सूची नियम के विरुद्ध बना, क्वालिफाइंग मार्क्स को मेधा सूची में जोड़ना विज्ञापन नियमावली के विरुद्ध है। राजेश उन्होंने कहा कि कई छात्र ऐसे हैं जिन्होंने अन्य सेवा को छोड़ जेपीएससी परीक्षा में उत्तीर्ण हो सेवा में बहाल हुए। मेधा सूची के रद्द होने के आदेश के बाद अब ऐसे छात्र बेरोजगार और अवसाद में हैं। सरकार की निरंकुशता और विफलता की कलई खुल गई है। सरकार नियुक्ति, रोजगार,के मसले पर हर मोर्चे पर विफल रही है। सरकार के पास न तो विजन और न ही इच्छाशक्ति। छात्र गुमराह, अवसादग्रस्त और तनावग्रस्त हैं। हेमंत सरकार के कथनी और करनी में भेद है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य रूप से विभावि प्रवक्ता उमेश कुमार ,सचिव सुबिन तिवारी, अमित दास, उपाध्यक्ष मनोज कुमार, खेमलाल महतो, राजू गिरी आदि लोग उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *