कोरोना संक्रमण से हुई मौत तो शिशु प्रोजेक्ट के तहत आश्रितों का भार उठाएगा झालसा: डीजे

मृतक के बच्चों को प्रारंभिक से उच्च शिक्षा तक का खर्च करेगा वहन झालसा
मृतक के परिजनों से मिले जिला सत्र न्यायाधीश और सचिव
रोटी बैंक ने परिजनों के बीच किया खाद्य समग्री एवं कपड़ा का वितरण
महेंद्र कुमार यादव
चतरा: चतरा जिले के हंटरगंज प्रखंड स्थित गोसाई डीह और बहेरी गांव में कोविड 19 संक्रमण से कमाऊ व्यक्ति कि हुई मौत पर परिजनों को ढाढस बनधाने एवं झालसा प्रोजेक्ट के तहत मिलने वाले लाभ को पहुंचाने के उद्देश्य गुरुवार को जिला सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार सिंह, जिला विधिक सेवा प्राधिकार चतरा के सचिव कुमार क्रांति प्रसाद और न्यायिक दंडाधिकारी मुक्ति भगत हंटरगंज पहुंचे। इस महत्वपूर्ण दौरा के दौरान हंटरगंज के सुदूरवर्ती गावं बहेरी और गोसाईंडीह पहुंच कर कोरोना संक्रमण से हुई मौत पर गहरा दुख प्रकट करते हुए मृतक के आश्रितों से मुलाकात कर ढाढस बनधाया और हर सम्भव सहायता दिलाने कि बात कही। मृतक के परिजनों का हालचाल लिया और उनके समस्याओं को गौर से सुना। जिला सत्र न्यायाधीश और विधिक सेवा प्राधिकार चतरा के सचिव ने मृतक के परिजनों को झालसा के शिशु प्रोजेक्ट के तहत मिलने वाले लाभ के बारे में विस्तापूर्वक बताया। उन्होंने बताया कि शिशु प्रोजेक्ट के तहत कोरोना जैसी बीमारी से मरने वाले लोगों के परिवारिक लाभ के तहत बच्चों को झालसा प्रारंभिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक खर्च का वहन करेगी। बच्चों के 23 साल की आयु में उन्हें 10 लाख कि सहायता राशि भी प्रदान किए जाने का।प्रावधान है। इसके अलावा वर्तमान में 15 वर्ष तक के बच्चो को हर महीने 2000 रुपए कि आर्थिक सहयोग और निशुल्क शिक्षा देने का काम करेगी। इसके अलावा मृतक के आश्रितों को सरकारी लाभ दिए जाने की बात कही गई है।
कोरोना से मौत हुई गोसाईडीह के पिंटू भुइया के पत्नी और उसके तीन बच्चों से मुलाकात कर उनके समस्याओं को जाना। इस दौरान बच्चों को तत्काल शिक्षा से जुड़े जाने का निर्देश विभाग को दिया और स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों को प्रधानमंत्री आवास प्लस योजना का लाभ देने का निर्देश दिया। पंचायत प्रतिनिधियों ने पिंटू भुइया के परिजनों को 2 दिनों के अंदर प्रधानमंत्री आवास प्लस योजना का लाभ देने की प्रक्रिया शुरू कर दिए जाने की बात कहा। बहेरी गांव में कोरोना से मौत होने वाले संतु सिंह और धीरेंद्र कुमार सिंह के परिजन और बच्चों से मिले और उनके दर्द पर मरहम लगाने का काम किया। बच्चों को बेहतर शिक्षा मुहैया कराने का आश्वासन भी दिया गया। साथ ही आवास योजना दिए जाने की भी बात कहा गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकार चतरा के द्वारा कोरोना से घर के मुखिया के मौत के बाद परिजनों के उजड़े दुनिया को दोबारा बसाने का काम किया जा रहा है। जिला विधिक सेवा प्राधिकार चतरा का यह कार्य उक्त असहाय परिवारों के लिए वरदान साबित हो रहा है। जिला जज और विधिक सेवा प्राधिकार चतरा के सचिव ने पीएलवी कुमार विवेक रंजन, सरयू यादव, मिथिलेश कुमार, गुरमीत सिंह, सत्येंद्र रविदास को मृतक के आश्रितों को कार्यालय कार्य में भरपूर सहयोग करने का निर्देश दिया। कई आवश्यक दस्तावेज तैयार करवाने की जिम्मेदारी भी पीएलवी को सौंपी गई। वहीं पंचायत के मुखिया को भी कई विशेष निर्देश भी दिया गया है। इस मौके पर रोटी बैंक चतरा के द्वारा मृतक के आश्रितों को राशन कपड़ा सहित अन्य सामग्री दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *