पोषण वाटिका के महत्व की दी जानकारी

गोड्डा : ग्रामीण विकास ट्रस्ट-कृषि विज्ञान केंद्र, गोड्डा के तत्वावधान में बोआरीजोर प्रखंड के ग्राम केरोकुपी में प्रगतिशील किसानों का एक दिवसीय प्रशिक्षण, अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन कार्यक्रम तथा सतर्कता जागरूकता सप्ताह कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्रशिक्षण का विषय फसलों एवं सब्जियों में कृषि उद्यमिता का महत्व तथा पोषण वाटिका का महत्व था। गृह वैज्ञानिक डाॅ प्रगतिका मिश्रा ने महिला किसानों को पोषण वाटिका के महत्व पर प्रकाश डाला।
उन्होंने बताया कि घर के आसपास थोड़ी सी भी जमीन है तो आप उसमें पोषण वाटिका बना सकते हैं। पोषण वाटिका में लगी सब्जियां न सिर्फ आपको बिना पैसे के मिलेंगी बल्कि वो कीटनाशक रहित यानि पूरी तरह जैविक होंगी, जो आपको कुपोषण से मुक्त कर सेहतमंद बनाएंगी।
कृषि प्रसार वैज्ञानिक डाॅ रितेश दुबे ने महिला किसानों को फसलों एवं सब्जियों में कृषि उद्यमिता का महत्व के विषय पर विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यदि फसलों एवं सब्जियों की व्यापारिक दृष्टि से खेती करके बीज तथा सब्जियों को बाजार तक पहुंचाया जाए, तभी किसानों की आय में वृद्धि होना संभव है। सतर्कता जागरूकता सप्ताह पर विचार प्रकट करते हुए कहा कि यह सप्ताह 26 अक्टूबर से 1 नवम्बर, 2021 तक विभिन्न गांव एवं कृषि विज्ञान केंद्र में मनाया जायेगा। सतर्कता जागरूकता सप्ताह मनाने का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण किसानों, युवकों, युवतियों को भ्रष्टाचार, चोरी, बेईमानी, रिश्वत न लेने के लिए जागरूक करना है। महिला किसानों को ईमानदारी से स्वयं सहायता समूह चलाने के लिए प्रेरित किया। प्रशिक्षण के अन्त में सभी प्रगतिशील महिला किसानों के बीच अमरूद, नींबू के पौधे, गांठगोभी, फूलगोभी, पत्तागोभी के बिचड़े, चुकन्दर, गाजर, मूली, पालक, मेथी, बैंगन, मिर्च, धनिया, फ्रेंच बीन के बीज पोषण वाटिका में लगाने के लिए वितरित किया गया। पिंकी देवी, प्रीति कुमारी, मीरू मुर्मू, सुनीता टुडू, गंगामुनी हेम्ब्रम समेत 25 प्रगतिशील महिला किसान प्रशिक्षण में सम्मिलित हुईं।