गोड्डा को आवंटित कोविड टीका बिहार में लगाने के मामले की जांच शुरू

– डीसी के आदेश पर डीडीसी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मेहरमा में शुरू की जांच
– प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं कतिपय स्वास्थ्य कर्मी आरोपों के कटघरे में
विजय कुमार की रिपोर्ट

मेहरमा : झारखंड सरकार द्वारा गोड्डा जिला को आवंटित कोविड का टीका बिहार के भागलपुर जिला अंतर्गत कहलगांव इलाके में लगाए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। जिला प्रशासन के आदेश पर मामले की जांच शुरू हो गई है। गुरुवार को उपायुक्त के आदेश पर उप विकास आयुक्त चंदन कुमार, महागामा के अनुमंडल पदाधिकारी जितेंद्र कुमार देव एवं सिविल सर्जन डॉक्टर मंटू टेकरीवाल ने मेहरमा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर मामले की जांच शुरू की। इस मामले में मेहरमा के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं कतिपय स्वास्थ्य कर्मियों की भूमिका संदिग्ध बताई जा रही है।
मेहरमा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के स्वास्थ्य कर्मी द्वारा 21 अगस्त को बिहार के कहलगांव प्रखंड अंतर्गत रामपुर पंचायत के जागेश्वरी प्राइमरी स्कूल परिसर में झारखंड सरकार द्वारा मेहरमा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को आवंटित कोविड वैक्सीन बिहार के लोगों को बिना सूचना के लगाते देखा गया था। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने के बाद बिहार के थाने में दोषियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।
इधर गोड्डा प्रशासन के आदेश पर भी मामले की जांच शुरू हो गई है। प्रकरण की जांच करने गुरुवार को उप विकास आयुक्त चंदन कुमार, महागामा अनुमंडल पदाधिकारी जितेंद्र कुमार देव ने मेहरमा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर वीडियो क्लिप में दिख रहे लोगों से पूछताछ की। वहीं अस्पताल के कर्मी मेसो पहाड़िया, कुणाल कुमार, आकांक्षा प्रिया समेत अन्य कर्मियों से कड़ी पूछताछ की गई। साथ ही कई अहम जानकारी भी एकत्रित किया गया।
डीडीसी चंदन कुमार ने सभी कर्मियों को पूछताछ के दौरान साफ शब्दों में कहा कि आखिर आप लोग पूरी टीम के साथ बिहार क्या करने गए थे? साफ साफ शब्दों में बता दें, ताकि दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध कार्रवाई हो सके। अन्यथा इस मामले में जो भी दोषी पाए जाएंगे सभी के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।
जांच टीम के द्वारा घंटों पूछताछ के बाद मेहरमा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से चलकर बिहार के जिस स्कूल में टीका लगाया जा रहा था वहां जांच करने के लिए पहुंचे। खबर लिखे जाने तक जांच कर अधिकारी वापस नहीं लौटे थे। इस मौके पर उप विकास आयुक्त चंदन कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी जितेंद्र कुमार देव, मेहरमा प्रखंड विकास पदाधिकारी कुमार अभिषेक सिंह, सीओ सुनील कुमार, सिविल सर्जन मंटू टेकरीवाल उपस्थित थे।